Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2024 · 2 min read

मालपुआ

कोई भी उत्सव पकवानों/व्यंजनों के पूर्ण नहीं होता है। उत्सव में इन्हें नेवतना आवश्यक हो जाता है । यह पकवान ही हैं, जो उत्सव को सम्पूर्ण बनाते हैं और आकर्षक भी । इसलिए अयोध्या के मालपुए को नेवत रहा हूँ। कहते हैं राम को केसर भात, केसर खीर, कलाकंद, बर्फी, गुलाब जामुन जैसे व्यंजन/मिठाइयाँ पसंद थीं।.. और मालपुआ ? मालपुआ या मलपुआ तो अयोध्या में समाया है। यह पुआ ही है जो चासनी और रबड़ी के साथ मिलने पर इठलाते हुए मालपुआ बन जाता है। अयोध्या पधारने पर यह मालपुआ स्वागत में सदैव तत्पर रहता है। यह अयोध्या का लोकप्रिय पारम्परिक व्यंजन है । यह आटे या मैदे, दूध और चीनी के घोल से बनता है। घोल में सौंफ ,इलायची और नारियल का टुकड़ा भी उपलब्धता के अनुसार मिला दिया जाता है। यह घोल खौलते तेल में सुर्ख लाल होने तक तला जाता है । यह पुआ होता है। उत्तर प्रदेश, विशेषकर पूर्वांचल में घर-घर में पुआ समाया है। कुछ लोग इसे भरुआ लाल मिर्च के साथ भी खाते हैं । पुआ चासनी में डूबकर रबड़ी के मिलन से मालपुआ हो जाता है। होली और अन्य त्योहारों में अयोध्यावासी मालपुए के स्वाद में डूब जाते हैं, तर हो जाते हैं। मालपुआ सबके लिए है । मालपुए को शिकायत है उनसे जो इसकी हुनर को चुराकर ब्रेड से शाही टुकड़ा बना दिए और लोगों की ज़ेब से पैसा निकाल रहे हैं । इसे अपने छोटे भाई गुलगुले से कोई परहेज़ नहीं है। बच्चे के जन्म के बाद छठीआर में भी कहीं–कहीं मालपुआ बनता है और गुलगुला भी। बहरहाल मालपुआ अयोध्या के अन्य पारम्परिक व्यंजनों के साथ आपके स्वागत में है। चाट-फाट तो मिलेगा ही, पूरी कचौरी भी । परन्तु मालपुआ का स्वाद लेने वाले ही समझेंगे इस पारम्परिक विरासत को, जिसे नेवता जाना चाहिए तमाम व्यंजनों की चकाचौध में ।

Language: Hindi
1 Like · 54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
View all
You may also like:
अंधविश्वास का पोषण
अंधविश्वास का पोषण
Mahender Singh
अपनी पहचान को
अपनी पहचान को
Dr fauzia Naseem shad
चाय के दो प्याले ,
चाय के दो प्याले ,
Shweta Soni
#लघुकथा / #सबक़
#लघुकथा / #सबक़
*Author प्रणय प्रभात*
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
महफ़िल जो आए
महफ़िल जो आए
हिमांशु Kulshrestha
*तन्हाँ तन्हाँ  मन भटकता है*
*तन्हाँ तन्हाँ मन भटकता है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बात उनकी क्या कहूँ...
बात उनकी क्या कहूँ...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
सुना है सपने सच होते हैं।
सुना है सपने सच होते हैं।
Shyam Pandey
शुभ धाम हूॅं।
शुभ धाम हूॅं।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
पूर्वार्थ
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
Harminder Kaur
खुशबू चमन की।
खुशबू चमन की।
Taj Mohammad
उनको ही लाजवाब लिक्खा है
उनको ही लाजवाब लिक्खा है
अरशद रसूल बदायूंनी
Peace peace
Peace peace
Poonam Sharma
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
सफर पे निकल गये है उठा कर के बस्ता
सफर पे निकल गये है उठा कर के बस्ता
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
श्यामपट
श्यामपट
Dr. Kishan tandon kranti
खुदकुशी से पहले
खुदकुशी से पहले
Shekhar Chandra Mitra
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
Ajad Mandori
मालिक मेरे करना सहारा ।
मालिक मेरे करना सहारा ।
Buddha Prakash
💐प्रेम कौतुक-274💐
💐प्रेम कौतुक-274💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
..........?
..........?
शेखर सिंह
नहीं जाती तेरी याद
नहीं जाती तेरी याद
gurudeenverma198
ना मानी हार
ना मानी हार
Dr. Meenakshi Sharma
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
DrLakshman Jha Parimal
हकीकत
हकीकत
अखिलेश 'अखिल'
Loading...