Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jan 2023 · 2 min read

मार मुदई के रे… 2

मार मुदई के रे ई कईसन नया साल बाऽ
ठंड से ठिठुर के सारा लोग बेहाल बाऽ

सुबह शाम चाहे दोपहर में धूप के ना तनिको दर्शन बाऽ
सारी दिन सारी रात शबनम के बर्शन बाऽ
मार मुदई के रे ई कईसन नया साल बाऽ
ठंड से ठिठुर के सारा लोग बेहाल बाऽ

नया साल के नाम पर बचपन से पचपन ले नहाईल लो
पहेन के कपड़ा लता कम्बल रजाई में लुकाईल लो
मार मुदई के रे ई कईसन नया साल बाऽ
ठंड से ठिठुर के सारा लोग बेहाल बाऽ

मानव पशु पक्षी जीव जन्तु सबे लुकाईल बाऽ
पेड़ पौधा फल फुलवारी सबे संकुचाईल बाऽ
मार मुदई के रे ई कईसन नया साल बाऽ
ठंड से ठिठुर के सारा लोग बेहाल बाऽ

मौसम में बदलाव नाहीं समय में बदलाव बाऽ
गाँव शहर के घर घर में जरत अलाव बाऽ
मार मुदई के रे ई कईसन नया साल बाऽ
ठंड से ठिठुर के सारा लोग बेहाल बाऽ

प्रकृति में कवनो अंतर दिखाई नाहीं देत बाऽ
नया फसल कटे में दु महीना लेट बाऽ
मार मुदई के रे ई कईसन नया साल बाऽ
ठंड से ठिठुर के सारा लोग बेहाल बाऽ

कोयल के कुहुक नाहीं चिड़ियन के चाहचाहाहट बाऽ
जीवन के भेश भूषा में नाहीं कवनो बदलाहट बाऽ
मार मुदई के रे ई कईसन नया साल बाऽ
ठंड से ठिठुर के सारा लोग बेहाल बाऽ

दिन में कही सूरज ना दिखे रात में कही ना चाॅंद
कुहासा के मारे नदी नाला सब बुझाए बाॅंध
मार मुदई के रे ई कईसन नया साल बाऽ
ठंड से ठिठुर के सारा लोग बेहाल बाऽ
——————–०००———————-
कवि : जय लगन कुमार हैप्पी

117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिचकी
हिचकी
Bodhisatva kastooriya
जीवन जीते रहने के लिए है,
जीवन जीते रहने के लिए है,
Prof Neelam Sangwan
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
Dr Manju Saini
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
Pramila sultan
नींबू की चाह
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
मन तो मन है
मन तो मन है
Pratibha Pandey
नम आँखे
नम आँखे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
Manisha Manjari
एक ज्योति प्रेम की...
एक ज्योति प्रेम की...
Sushmita Singh
जख्म भरता है इसी बहाने से
जख्म भरता है इसी बहाने से
Anil Mishra Prahari
"वक्त के पाँव"
Dr. Kishan tandon kranti
मौन
मौन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
खुद में भी एटीट्यूड होना जरूरी है साथियों
खुद में भी एटीट्यूड होना जरूरी है साथियों
शेखर सिंह
जिंदगी एक भंवर है
जिंदगी एक भंवर है
Harminder Kaur
भ्रम
भ्रम
Shiva Awasthi
वो सुन के इस लिए मुझको जवाब देता नहीं
वो सुन के इस लिए मुझको जवाब देता नहीं
Aadarsh Dubey
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
Dr MusafiR BaithA
2462.पूर्णिका
2462.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
तन्हाई को तोड़ कर,
तन्हाई को तोड़ कर,
sushil sarna
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
Arvind trivedi
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
*तुम्हारी पारखी नजरें (5 शेर )*
*तुम्हारी पारखी नजरें (5 शेर )*
Ravi Prakash
अतीत - “टाइम मशीन
अतीत - “टाइम मशीन"
Atul "Krishn"
"दीप जले"
Shashi kala vyas
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ
1B_ वक्त की ही बात है
1B_ वक्त की ही बात है
Kshma Urmila
जिंदगी पेड़ जैसी है
जिंदगी पेड़ जैसी है
Surinder blackpen
Loading...