Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2024 · 1 min read

माया और ब़ंम्ह

दृष्य़ जगत ब़ंम्ह की माया है, जिसमें संसार समाया है
जगत दृश्य है, ब़ंम्ह अदृश्य है, यही तो उसकी माया है
सारी सृष्टि और काया, अदृश्य ब़ंम्ह ने सभी बनाया
चर्म चक्षुओं से कोई देख न पाया, उसकी तो है अदभुद माया
माया नश्वर ब़ंम्ह अमर है, ब़ंम्ह सत्य माया असत्य है
नश्वर में सुख ढूंढ रहे हैं,परम सत्य को भूल रहे हैं
मोह माया वासना कामना में, सभी निरंतर दौड़ रहे हैं
ब़ंम्ह तो घट घट वासी है, सृष्टि में माया व्यापी है
तुम ढूंढ रहे हो सृष्टि में,वो तो अंतरयामी है
ब़ंम्ह तो घट घट वासी है, क्या कावा क्या काशी है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

3 Likes · 87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
Noone cares about your feelings...
Noone cares about your feelings...
Suryash Gupta
अधूरापन
अधूरापन
Rohit yadav
*रामलला सिखलाते सबको, राम-राम ही कहना (गीत)*
*रामलला सिखलाते सबको, राम-राम ही कहना (गीत)*
Ravi Prakash
अगर आपको सरकार के कार्य दिखाई नहीं दे रहे हैं तो हमसे सम्पर्
अगर आपको सरकार के कार्य दिखाई नहीं दे रहे हैं तो हमसे सम्पर्
Anand Kumar
ଡାକ ଆଉ ଶୁଭୁ ନାହିଁ ହିଆ ଓ ଜଟିଆ
ଡାକ ଆଉ ଶୁଭୁ ନାହିଁ ହିଆ ଓ ଜଟିଆ
Bidyadhar Mantry
अंत
अंत
Slok maurya "umang"
3088.*पूर्णिका*
3088.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
यूं अपनी जुल्फों को संवारा ना करो,
यूं अपनी जुल्फों को संवारा ना करो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वफा माँगी थी
वफा माँगी थी
Swami Ganganiya
वो जो आपकी नज़र से गुज़री अभी नहीं है,,
वो जो आपकी नज़र से गुज़री अभी नहीं है,,
Shweta Soni
* गीत मनभावन सुनाकर *
* गीत मनभावन सुनाकर *
surenderpal vaidya
कृषक
कृषक
साहिल
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
उदास रात सितारों ने मुझसे पूछ लिया,
उदास रात सितारों ने मुझसे पूछ लिया,
Neelofar Khan
"ईद-मिलन" हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
Prof Neelam Sangwan
मनभावन होली
मनभावन होली
Anamika Tiwari 'annpurna '
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
एक होस्टल कैंटीन में रोज़-रोज़
Rituraj shivem verma
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Lohit Tamta
अनुशासन या अफ़सोस: जीवन का एक चुनाव
अनुशासन या अफ़सोस: जीवन का एक चुनाव
पूर्वार्थ
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दूर अब न रहो पास आया करो,
दूर अब न रहो पास आया करो,
Vindhya Prakash Mishra
मैं तो निकला था चाहतों का कारवां लेकर
मैं तो निकला था चाहतों का कारवां लेकर
VINOD CHAUHAN
प्रेरणा
प्रेरणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लोग बंदर
लोग बंदर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*चिड़ियों को जल दाना डाल रहा है वो*
*चिड़ियों को जल दाना डाल रहा है वो*
sudhir kumar
"" *मैंने सोचा इश्क करूँ* ""
सुनीलानंद महंत
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...