Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2023 · 1 min read

“मायने”

“मायने”
———-
ख़ास मायने नहीं रखती
जिन्दगी की लम्बाई,
कुछ ऐसा करो कि
जिन्दगी गहरी महसूस हो…।
– डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति

4 Likes · 2 Comments · 315 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
दिल में मदद
दिल में मदद
Dr fauzia Naseem shad
बेटियां / बेटे
बेटियां / बेटे
Mamta Singh Devaa
दयालू मदन
दयालू मदन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जनाब पद का नहीं किरदार का गुरुर कीजिए,
जनाब पद का नहीं किरदार का गुरुर कीजिए,
शेखर सिंह
बच्चे ही मां बाप की दुनियां होते हैं।
बच्चे ही मां बाप की दुनियां होते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
Satyaveer vaishnav
नानी का गांव
नानी का गांव
साहित्य गौरव
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
Shivkumar barman
शब्द मधुर उत्तम  वाणी
शब्द मधुर उत्तम वाणी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
उलझनें तेरे मैरे रिस्ते की हैं,
उलझनें तेरे मैरे रिस्ते की हैं,
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
मेरी कलम से बिखरी स्याही कभी गुनगुनाएंगे,
मेरी कलम से बिखरी स्याही कभी गुनगुनाएंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Bad in good
Bad in good
Bidyadhar Mantry
जय अयोध्या धाम की
जय अयोध्या धाम की
Arvind trivedi
शिक्षा अपनी जिम्मेदारी है
शिक्षा अपनी जिम्मेदारी है
Buddha Prakash
लोगो खामोश रहो
लोगो खामोश रहो
Surinder blackpen
3111.*पूर्णिका*
3111.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
Manju sagar
हर एक ईट से उम्मीद लगाई जाती है
हर एक ईट से उम्मीद लगाई जाती है
कवि दीपक बवेजा
चाय-दोस्ती - कविता
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
जो परिवार और रिश्ते आपने मुद्दे आपस में संवाद करके समझ बूझ
जो परिवार और रिश्ते आपने मुद्दे आपस में संवाद करके समझ बूझ
पूर्वार्थ
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
Ram Krishan Rastogi
शुभ को छोड़ लाभ पर
शुभ को छोड़ लाभ पर
Dr. Kishan tandon kranti
" नैना हुए रतनार "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
पतझड़ से बसंत तक
पतझड़ से बसंत तक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
(22) एक आंसू , एक हँसी !
(22) एक आंसू , एक हँसी !
Kishore Nigam
*तिरंगा मेरे  देश की है शान दोस्तों*
*तिरंगा मेरे देश की है शान दोस्तों*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"सस्ते" लोगों से
*Author प्रणय प्रभात*
भरी महफिल
भरी महफिल
Vandna thakur
ऑंखों से सीखा हमने
ऑंखों से सीखा हमने
Harminder Kaur
Loading...