Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2016 · 1 min read

मान नहीं

यार नही तो मान नहीं है
प्यार नहीं तो शान नहीं है

प्रिय मेरा साथ न हो फिर से
घर में कोई भी जान नहीं है

निभने में आती बाधाएँ
जिसका तुझको भान नहीं है

फूँक फूँक कर कदम रखो
जीवन में नुकसान नहीं है

हौसलें बुलन्द कभी हो गर
कोई राह अंजान नही है

प्रेम विकसता हो मन में जब
दिल का पंथ वीरान नही है

सच्चा कोई रहनुमा मिले
उससे बढ़ भगवान नही है

बहते अश्कों को जो पोछें
उससे बड़ा इंसान नही है

डॉ मधु त्रिवेदी

70 Likes · 277 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
#ekabodhbalak
#ekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
छवि अति सुंदर
छवि अति सुंदर
Buddha Prakash
सच और झूँठ
सच और झूँठ
विजय कुमार अग्रवाल
क़तआ (मुक्तक)
क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
2878.*पूर्णिका*
2878.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
kavita
kavita
Rambali Mishra
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
कवि रमेशराज
***
*** " ओ मीत मेरे.....!!! " ***
VEDANTA PATEL
बादल और बरसात
बादल और बरसात
Neeraj Agarwal
घड़ी घड़ी ये घड़ी
घड़ी घड़ी ये घड़ी
Satish Srijan
स्मृति शेष अटल
स्मृति शेष अटल
कार्तिक नितिन शर्मा
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
बिसुणी (घर)
बिसुणी (घर)
Radhakishan R. Mundhra
जय अन्नदाता
जय अन्नदाता
gurudeenverma198
वृक्ष लगाओ,
वृक्ष लगाओ,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
Rj Anand Prajapati
इकबालिया बयान
इकबालिया बयान
Shekhar Chandra Mitra
शिव दोहा एकादशी
शिव दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
Ajay Kumar Vimal
💐प्रेम कौतुक-466💐
💐प्रेम कौतुक-466💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*
* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*
Ravi Prakash
* विजयदशमी *
* विजयदशमी *
surenderpal vaidya
दांतो का सेट एक ही था
दांतो का सेट एक ही था
Ram Krishan Rastogi
There are only two people in this
There are only two people in this
Ankita Patel
याद इतना
याद इतना
Dr fauzia Naseem shad
अपनी हिंदी
अपनी हिंदी
Dr.Priya Soni Khare
.
.
Amulyaa Ratan
Loading...