Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Nov 2023 · 1 min read

मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।

मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
सरल रेखवत् है कहीं, कहीं-कहीं पर वक्र।।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

Language: Hindi
1 Like · 182 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
💐अज्ञात के प्रति-132💐
💐अज्ञात के प्रति-132💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुंदरता हर चीज में होती है बस देखने वाले की नजर अच्छी होनी च
सुंदरता हर चीज में होती है बस देखने वाले की नजर अच्छी होनी च
Neerja Sharma
वृंदावन की कुंज गलियां
वृंदावन की कुंज गलियां
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्यार किया हो जिसने, पाने की चाह वह नहीं रखते।
प्यार किया हो जिसने, पाने की चाह वह नहीं रखते।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
अभी नहीं पूछो मुझसे यह बात तुम
अभी नहीं पूछो मुझसे यह बात तुम
gurudeenverma198
***
*** " आधुनिकता के असर.......! " ***
VEDANTA PATEL
हर सुबह उठकर अपने सपनों का पीछा करना ही हमारा वास्तविक प्रेम
हर सुबह उठकर अपने सपनों का पीछा करना ही हमारा वास्तविक प्रेम
Shubham Pandey (S P)
मुस्कुराना चाहता हूं।
मुस्कुराना चाहता हूं।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
न
न "लाइटर", न "फ़ाइटर।"
*Author प्रणय प्रभात*
सब तेरा है
सब तेरा है
Swami Ganganiya
मन बड़ा घबराता है
मन बड़ा घबराता है
Harminder Kaur
श्री राम अर्चन महायज्ञ
श्री राम अर्चन महायज्ञ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हर कदम प्यासा रहा...,
हर कदम प्यासा रहा...,
Priya princess panwar
मानवता और जातिगत भेद
मानवता और जातिगत भेद
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
वो अपने घाव दिखा रहा है मुझे
Manoj Mahato
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
अनिल कुमार
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
पूर्वार्थ
जब तक नहीं है पास,
जब तक नहीं है पास,
Satish Srijan
लहजा बदल गया
लहजा बदल गया
Dalveer Singh
जी-२० शिखर सम्मेलन
जी-२० शिखर सम्मेलन
surenderpal vaidya
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
कवि दीपक बवेजा
दोहा त्रयी. . . शीत
दोहा त्रयी. . . शीत
sushil sarna
कुछ तो अच्छा छोड़ कर जाओ आप
कुछ तो अच्छा छोड़ कर जाओ आप
Shyam Pandey
मीलों की नहीं, जन्मों की दूरियां हैं, तेरे मेरे बीच।
मीलों की नहीं, जन्मों की दूरियां हैं, तेरे मेरे बीच।
Manisha Manjari
आज देव दीपावली...
आज देव दीपावली...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ईश्वर का प्रेम उपहार , वह है परिवार
ईश्वर का प्रेम उपहार , वह है परिवार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Preparation is
Preparation is
Dhriti Mishra
हवाओ में हुं महसूस करो
हवाओ में हुं महसूस करो
Rituraj shivem verma
Meri Jung Talwar se nahin hai
Meri Jung Talwar se nahin hai
Ankita Patel
पल भर में बदल जाए
पल भर में बदल जाए
Dr fauzia Naseem shad
Loading...