Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2023 · 1 min read

मानव अधिकार

आल्हा छंद
16/15 पर यति
विषय-मानव अधिकार

जीवन में तज दो सदा स्वार्थ ,रख लो मानवता का मान।
मानव अधिकार है सदा से, परहित जीवन जीना शान।।
रख लो मान सदा पौरुष का, तुम बलवानों के आधार।
लाज धर्म की तुम रख लेना, करना निष्ठा से साकार।।

मानव हो मानवता धारो ,कर लो जीव जगत से प्यार।
जन जीवन से ऊपर उठकर, जानों निज जीवन का सार।।
जात -पात के बंधन तोड़ो ,तोड़ दो हिंसा के पहाड़।
प्रेम धर्म है सबसे ऊॅंचा, मानवता की करो दहाड़।।

मां बहनों की लाज बचाना ,और करो सबका सत्कार।
हाथ शत्रु का उठे कभी जो, करो जोश से खड़ग प्रहार ।।
बाग सुनहरा सजा रहे यह, हरा -भरा रखना करतार ।
हम भारत के भारतवासी ,मान करे सारा संसार।।

ललिता कश्यप जिला बिलासपुर हिमाचल प्रदेश

Language: Hindi
78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
मनोज कर्ण
जुनून
जुनून
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Kagaj ke chand tukado ko , maine apna alfaj bana liya .
Kagaj ke chand tukado ko , maine apna alfaj bana liya .
Sakshi Tripathi
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
AJAY AMITABH SUMAN
जीवन को जीतती हैं
जीवन को जीतती हैं
Dr fauzia Naseem shad
प्रयास जारी रखें
प्रयास जारी रखें
Mahender Singh
मुझको कबतक रोकोगे
मुझको कबतक रोकोगे
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
बदलता दौर
बदलता दौर
ओनिका सेतिया 'अनु '
भाग्य - कर्म
भाग्य - कर्म
Buddha Prakash
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
Ashwini sharma
*मन  में  पर्वत  सी पीर है*
*मन में पर्वत सी पीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
संभावना
संभावना
Ajay Mishra
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
कवि रमेशराज
आंधियों से हम बुझे तो क्या दिए रोशन करेंगे
आंधियों से हम बुझे तो क्या दिए रोशन करेंगे
कवि दीपक बवेजा
मैं एक खिलौना हूं...
मैं एक खिलौना हूं...
Naushaba Suriya
*जमीं भी झूमने लगीं है*
*जमीं भी झूमने लगीं है*
Krishna Manshi
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
ତାଙ୍କଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें
हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें
DrLakshman Jha Parimal
तलाशता हूँ -
तलाशता हूँ - "प्रणय यात्रा" के निशाँ  
Atul "Krishn"
रक़्श करतें हैं ख़यालात मेरे जब भी कभी..
रक़्श करतें हैं ख़यालात मेरे जब भी कभी..
Mahendra Narayan
आशा
आशा
Sanjay ' शून्य'
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
किसको सुनाऊँ
किसको सुनाऊँ
surenderpal vaidya
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
Bodhisatva kastooriya
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
: आओ अपने देश वापस चलते हैं....
shabina. Naaz
भाव  पौध  जब मन में उपजे,  शब्द पिटारा  मिल जाए।
भाव पौध जब मन में उपजे, शब्द पिटारा मिल जाए।
शिल्पी सिंह बघेल
3241.*पूर्णिका*
3241.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
शेखर सिंह
Loading...