Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

मानवीय कर्तव्य

डा. अरुण कुमार शास्त्री / एक अबोध बालक / अरुण अतृप्त
मानवीय कर्तव्य

इश्क और आशिकी को हमें अब मिलाना चाहिए
परचम मोहब्बत का आसमान में लहराना चाहिए //
सूख रहे हैं वन, उपवन और सभी ऐतिहासिक चमन
कोई फरमान तरतीब से मुल्क में लगाना चाहिए //
वो तुमसे खफ़ा है और हम से भी नाराज़ सा लगता है
दर्द उसका आगे बढ के हमें मामूल पर ले आना चाहिए //
चोट लगती है आपसी रिश्तों में तभी बगावत होती है
एहसास को अब समझदारी का वस्त्र पहनाना चाहिए //
उठ कर कोई मज्लूम मिरी महफिल से आखिर जाए क्युं
बात समझो तो वक्त रह्ते हमें उसको अपना लेना चाहिए //
तोड़ कर संकीर्णता की बेडीयाँ कुछ ही लोग निकल पाते हैं
बुला कर लाइए ऐसे लोंगों को हमें उनका सम्मान करना चाहिए //
इश्क और आशिकी को हमें अब मिलाना चाहिए
परचम मोहब्बत का आसमान में लहराना चाहिए //
सूख रहे हैं वन, उपवन और सभी ऐतिहासिक चमन
कोई फरमान तरतीब से मुल्क में लगाना चाहिए //
एक कोशिश ही तो है इस अबोध बालक की छोटी सी चमन में
आइए इस यज्ञ में हम सबको उसका हाँथ बटाना चाहिए //

133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
अफवाह आजकल फॉरवर्ड होती है(हास्य व्यंग्य)*
अफवाह आजकल फॉरवर्ड होती है(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
■ लानत ऐसे सिस्टम पर।।
■ लानत ऐसे सिस्टम पर।।
*Author प्रणय प्रभात*
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
बड़ी अजब है जिंदगी,
बड़ी अजब है जिंदगी,
sushil sarna
पल पल का अस्तित्व
पल पल का अस्तित्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पागल मन कहां सुख पाय ?
पागल मन कहां सुख पाय ?
goutam shaw
प्रारब्ध भोगना है,
प्रारब्ध भोगना है,
Sanjay ' शून्य'
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
मनोज कर्ण
फूल
फूल
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
Seema gupta,Alwar
अच्छा इंसान
अच्छा इंसान
Dr fauzia Naseem shad
यादों का थैला लेकर चले है
यादों का थैला लेकर चले है
Harminder Kaur
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
Ranjeet Kumar Shukla
तर्क-ए-उल्फ़त
तर्क-ए-उल्फ़त
Neelam Sharma
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
सब चाहतें हैं तुम्हे...
सब चाहतें हैं तुम्हे...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आहत बता गयी जमीर
आहत बता गयी जमीर
भरत कुमार सोलंकी
नहीं देखा....🖤
नहीं देखा....🖤
Srishty Bansal
लफ्जों के सिवा।
लफ्जों के सिवा।
Taj Mohammad
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
Awadhesh Kumar Singh
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अब मेरी मजबूरी देखो
अब मेरी मजबूरी देखो
VINOD CHAUHAN
★गहने ★
★गहने ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
gurudeenverma198
हम तुम
हम तुम
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
तुम बहुत प्यारे हो
तुम बहुत प्यारे हो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🇮🇳मेरा देश भारत🇮🇳
🇮🇳मेरा देश भारत🇮🇳
Dr. Vaishali Verma
झूठ रहा है जीत
झूठ रहा है जीत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Loading...