Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Sep 2022 · 1 min read

मादक अखियों में

गीत
मादक अखियों में

मैं तो अब हो चुका तुम्हारा
तुम भी मेरी हो जाओ ।
कोरी मादक इन अँखियों में
रिमझिम बनकर खो जाओ ।।

नित्य प्रतीक्षा रत वर्षों से
जगी रात भर ये आँखें ।
नहीं हौसलों में उड़ पाया
तुम बिन टूटी हैं पाँखें ।।

उर्वर उर की इस मिट्टी में
बीज प्यार के बो जाओ ।
मैं तो अब हो चुका तुम्हारा
तुम भी मेरी हो जाओ ।।

अधरों से गायब मुस्कानें
रहता मन आँगन सूना ।
देख कपोतों के जोड़ों को
अंतर् कष्ट बढ़े दूना ।।

पावन प्रेम-सुधा-घट बनकर
दर्द सभी तुम धो जाओ ।
मैं तो अब हो चुका तुम्हारा
तुम भी मेरी हो जाओ ।।

दे दो एक वचन हो मेरी
दो सँवार इस जीवन को ।
विश्वासों की बरसातों से
कर दो हरा-भरा मन को ।।

आज पिला चाहत का प्याला
अंक मदिर में सो जाओ ।
मैं तो अब हो चुका तुम्हारा
तुम भी मेरी हो जाओ ।।

डा. सुनीता सिंह ‘सुधा’
16/9/2022
वाराणसी ,©®

Language: Hindi
144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
If you get tired, learn to rest. Not to Quit.
If you get tired, learn to rest. Not to Quit.
पूर्वार्थ
अब की बार पत्थर का बनाना ए खुदा
अब की बार पत्थर का बनाना ए खुदा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*नेत्रदान-संकल्पपत्र कार्य 2022*
*नेत्रदान-संकल्पपत्र कार्य 2022*
Ravi Prakash
"मैं" का मैदान बहुत विस्तृत होता है , जिसमें अहम की ऊँची चार
Seema Verma
चाह ले....
चाह ले....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
देह खड़ी है
देह खड़ी है
Dr. Sunita Singh
जितना अता किया रब,
जितना अता किया रब,
Satish Srijan
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
Khem Kiran Saini
::बेवफा::
::बेवफा::
MSW Sunil SainiCENA
विश्व हुआ है  राममय,  गूँज  सुनो  चहुँ ओर
विश्व हुआ है राममय, गूँज सुनो चहुँ ओर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-320💐
💐प्रेम कौतुक-320💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"सच का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
एक दिन तो कभी ऐसे हालात हो
एक दिन तो कभी ऐसे हालात हो
Johnny Ahmed 'क़ैस'
"धूप-छाँव" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*तेरा इंतज़ार*
*तेरा इंतज़ार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#हंड्रेड_परसेंट_गारंटी
#हंड्रेड_परसेंट_गारंटी
*Author प्रणय प्रभात*
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अज्ञानता निर्धनता का मूल
अज्ञानता निर्धनता का मूल
लक्ष्मी सिंह
अभी तो साथ चलना है
अभी तो साथ चलना है
Vishal babu (vishu)
व्यवहार कैसा होगा बोल बता देता है..,
व्यवहार कैसा होगा बोल बता देता है..,
कवि दीपक बवेजा
"सुन रहा है न तू"
Pushpraj Anant
मुहब्बत
मुहब्बत
बादल & बारिश
रमेशराज की पेड़ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पेड़ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
पुरुष चाहे जितनी बेहतरीन पोस्ट कर दे
पुरुष चाहे जितनी बेहतरीन पोस्ट कर दे
शेखर सिंह
खद्योत हैं
खद्योत हैं
Sanjay ' शून्य'
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
surenderpal vaidya
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
क्या प्यार है तुमको हमसे
क्या प्यार है तुमको हमसे
gurudeenverma198
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
Radhakishan R. Mundhra
Loading...