Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2017 · 1 min read

मात नमामि रेवा मैया, जग जननी कहलावत है

मात नमामि रेवा मैया,
जग जननी कहलावत है|
माँ के चरणो मे हम बालक,
नित नित शीश झुकावत है

अमरकंट से निकले मैया,
सागर जान समावत है|
कल कल बहती जाती,
हम है दीप जलावत है||

भक्त हजारो आये पुकारू,
मैया गले लगावत है|
नरियल फूल कपूर की वाती,
देखो भक्त चढ़ावत है||

शिव शंकर ब्रम्हा विष्णु भी,
जिनको शीश झुकावत है|
गंगा यमुना मात नर्मदे,
जग जननी कहलावत है||

माँ की महिमा कोई न जाने,
माँ तो माँ कहलावत है|
कोढ़ी पापी लगड़ा लूला,
माँ के दरपे आवत है||

कष्टो को हर लेती मैया,
खुशी खुशी घर जावत है|
मात नमामि कष्ट विनाशक,
जग जननी कहलावत है

Language: Hindi
Tag: गीत
9 Likes · 473 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
काश जन चेतना भरे कुलांचें
काश जन चेतना भरे कुलांचें
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सबका वह शिकार है, सब उसके ही शिकार हैं…
सबका वह शिकार है, सब उसके ही शिकार हैं…
Anand Kumar
दूर क्षितिज के पार
दूर क्षितिज के पार
लक्ष्मी सिंह
देना और पाना
देना और पाना
Sandeep Pande
बारिश की बूंदों ने।
बारिश की बूंदों ने।
Taj Mohammad
*गर्मी की छुट्टी 【बाल कविता】*
*गर्मी की छुट्टी 【बाल कविता】*
Ravi Prakash
'Love is supreme'
'Love is supreme'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
Ravi Betulwala
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
Manisha Manjari
मेरी बातों का असर यार हल्का पड़ा उस पर
मेरी बातों का असर यार हल्का पड़ा उस पर
कवि दीपक बवेजा
न मौत आती है ,न घुटता है दम
न मौत आती है ,न घुटता है दम
Shweta Soni
विवशता
विवशता
आशा शैली
*दायरे*
*दायरे*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्या लिखूँ....???
क्या लिखूँ....???
Kanchan Khanna
वाणी में शालीनता ,
वाणी में शालीनता ,
sushil sarna
द़ुआ कर
द़ुआ कर
Atul "Krishn"
सदा सदाबहार हिंदी
सदा सदाबहार हिंदी
goutam shaw
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
इलेक्शन ड्यूटी का हौव्वा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरा शहर
मेरा शहर
विजय कुमार अग्रवाल
आज वो दौर है जब जिम करने वाला व्यक्ति महंगी कारें खरीद रहा ह
आज वो दौर है जब जिम करने वाला व्यक्ति महंगी कारें खरीद रहा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
विमला महरिया मौज
दिल की हक़ीक़त
दिल की हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
दिव्य ज्योति मुखरित भेल ,ह्रदय जुड़ायल मन हर्षित भेल !पाबि ले
दिव्य ज्योति मुखरित भेल ,ह्रदय जुड़ायल मन हर्षित भेल !पाबि ले
DrLakshman Jha Parimal
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
वो इश्क़ कहलाता है !
वो इश्क़ कहलाता है !
Akash Yadav
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
कुछ सपने आंखों से समय के साथ छूट जाते हैं,
manjula chauhan
Loading...