Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 1 min read

मात्र एक पल

असमर्थता की दुहाई,
मात्र एक पल के लिये…?
जीवन तो नहीं मांगा
चलो यदि मांग भी लिया
तो बुरा क्या है?
इतनी गहन सोच ?
मामला क्या है…
कोई प्रतिबंध नहीं है
पर यह न कहना
कि सम्बन्ध नहीं है
उत्तर दो , न दो
मन है तुम्हारा
जैसे सोच तुम्हारी
जैसे विचार तुम्हारा
पर मन संशय में है
कि शताब्दियों से ये
तुम्हारे आश्रय में है
चलो यदि नहीं है
तो डरना कैसा
अब टूटने के पूर्व
ही बिखरना कैसा
और यदि डर नहीं है
मन भी है सम्बन्ध भी
तो दुहाई क्यों
मन मे तुम्हारे
बात ये आयी क्यों
वो भी
मात्र एक पल के लिये…

अजय मिश्र

Language: Hindi
1 Like · 48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहे
दोहे
दुष्यन्त 'बाबा'
दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,
दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,
Vishal babu (vishu)
प्रथम नमन मात पिता ने, गौरी सुत गजानन काव्य में बैगा पधारजो
प्रथम नमन मात पिता ने, गौरी सुत गजानन काव्य में बैगा पधारजो
Anil chobisa
निरीह गौरया
निरीह गौरया
Dr.Pratibha Prakash
धरा पर लोग ऐसे थे, नहीं विश्वास आता है (मुक्तक)
धरा पर लोग ऐसे थे, नहीं विश्वास आता है (मुक्तक)
Ravi Prakash
जिंदगी है बहुत अनमोल
जिंदगी है बहुत अनमोल
gurudeenverma198
आजकल के समाज में, लड़कों के सम्मान को उनकी समझदारी से नहीं,
आजकल के समाज में, लड़कों के सम्मान को उनकी समझदारी से नहीं,
पूर्वार्थ
■ सारा खेल कमाई का...
■ सारा खेल कमाई का...
*Author प्रणय प्रभात*
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Republic Day
Republic Day
Tushar Jagawat
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
manjula chauhan
धर्मगुरु और राजनेता
धर्मगुरु और राजनेता
Shekhar Chandra Mitra
"गांव की मिट्टी और पगडंडी"
Ekta chitrangini
दिल तसल्ली को
दिल तसल्ली को
Dr fauzia Naseem shad
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
Dr.Rashmi Mishra
सागर बोला सुन ज़रा, मैं नदिया का पीर
सागर बोला सुन ज़रा, मैं नदिया का पीर
Suryakant Dwivedi
मतदान
मतदान
साहिल
पिता
पिता
Swami Ganganiya
* पत्ते झड़ते जा रहे *
* पत्ते झड़ते जा रहे *
surenderpal vaidya
"परम्परा"
Dr. Kishan tandon kranti
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
पलटूराम में भी राम है
पलटूराम में भी राम है
Sanjay ' शून्य'
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जहां तक तुम सोच सकते हो
जहां तक तुम सोच सकते हो
Ankita Patel
24/233. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/233. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरी जुल्फों के साये में भी अब राहत नहीं मिलती।
तेरी जुल्फों के साये में भी अब राहत नहीं मिलती।
Phool gufran
यूँ तो समुंदर बेवजह ही बदनाम होता है
यूँ तो समुंदर बेवजह ही बदनाम होता है
'अशांत' शेखर
लू, तपिश, स्वेदों का व्यापार करता है
लू, तपिश, स्वेदों का व्यापार करता है
Anil Mishra Prahari
मित्र भेस में आजकल,
मित्र भेस में आजकल,
sushil sarna
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़
Rj Anand Prajapati
Loading...