Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

**मातृभूमि**

मातृभूमि शत शत प्रणाम
हे मातृभूमि तुमको प्रणाम |
सुरभित रूपसी वन शृंगार
हे सुखदायक दीनाक्षार
चरण तेरे मिलता विश्राम
मातृभूमि शत शत प्रणाम
हे मातृभूमि तुमको प्रणाम |
अंक हिमालय अविरल गंगा
अविरत गतिमय जीव बहु संगा
उपजे, हुए विलीन अविराम
मातृभूमि शत शत प्रणाम
हे मातृभूमि तुमको प्रणाम |
ह्रास नीर, पर्वत बहु कानन
विप्रलंभ अवनी का आनन
नारी अलंकार बिन कैसी
क्षत-विक्षत अवनी के जैसी
शीतल अंबु, वात प्राणमय
स्रोत धरा, हृदय करुणामय
हृदय विशाल पर क्यूँ आघात
जीवन रहित है श्व: प्रभात
हा मानव ! भूमि निष्काम
मातृभूमि शत शत प्रणाम
हे मातृभूमि तुमको प्रणाम |
निज सर्वस्व करता स्थापित
मानव, दानव सम परिभाषित
ज्यों मधुमक्षिका दंश डसाये
हतभागी निज जीवन खाये
धरा क्षति से वैसे ही अब
निज विध्वंश करेगा मानव
हो विसाल ना हो संग्राम
मातृभूमि शत शत प्रणाम
हे मातृभूमि तुमको प्रणाम |
मातृभूमि शत शत प्रणाम…………………..
– स्वरचित (मौलिक) @@@ लक्ष्मण बिजनौरी (लक्ष्मीकान्त)

98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
प्रेमदास वसु सुरेखा
I hope you find someone who never makes you question your ow
I hope you find someone who never makes you question your ow
पूर्वार्थ
किसी की प्रशंसा एक हद में ही करो ताकि प्रशंसा एवं 'खुजाने' म
किसी की प्रशंसा एक हद में ही करो ताकि प्रशंसा एवं 'खुजाने' म
Dr MusafiR BaithA
Next
Next
Rajan Sharma
■ आज की सलाह। धूर्तों के लिए।।
■ आज की सलाह। धूर्तों के लिए।।
*Author प्रणय प्रभात*
मज़हब नहीं सिखता बैर 🙏
मज़हब नहीं सिखता बैर 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मौत का क्या भरोसा
मौत का क्या भरोसा
Ram Krishan Rastogi
पापी करता पाप से,
पापी करता पाप से,
sushil sarna
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
काव्य का राज़
काव्य का राज़
Mangilal 713
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
Swara Kumari arya
प्रेम पीड़ा
प्रेम पीड़ा
Shivkumar barman
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अकेला गया था मैं
अकेला गया था मैं
Surinder blackpen
वक्त-वक्त की बात है
वक्त-वक्त की बात है
Pratibha Pandey
"पिता है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहे- उदास
दोहे- उदास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ଅହଙ୍କାର
ଅହଙ୍କାର
Bidyadhar Mantry
हमारे अच्छे व्यवहार से अक्सर घृणा कर कोसते हैं , गंदगी करते
हमारे अच्छे व्यवहार से अक्सर घृणा कर कोसते हैं , गंदगी करते
Raju Gajbhiye
*वट का वृक्ष सदा से सात्विक,फल अद्भुत शुभ दाता (गीत)*
*वट का वृक्ष सदा से सात्विक,फल अद्भुत शुभ दाता (गीत)*
Ravi Prakash
शब्द
शब्द
Sangeeta Beniwal
मैंने एक चांद को देखा
मैंने एक चांद को देखा
नेताम आर सी
स्वप्न श्रृंगार
स्वप्न श्रृंगार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
Neelam Sharma
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बदनाम
बदनाम
Neeraj Agarwal
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
ज़िंदगी नही॔ होती
ज़िंदगी नही॔ होती
Dr fauzia Naseem shad
उन वीर सपूतों को
उन वीर सपूतों को
gurudeenverma198
शाश्वत प्रेम
शाश्वत प्रेम
Bodhisatva kastooriya
Loading...