Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 3 min read

माचिस

माचिस! क्या आप इन्हें जानते हैं? लगभग इस धरती पर मानव जीवन की जिंदगी जीने वाले हर एक इंसान इससे परिचित होंगे। छोटे से बड़े, बड़े से बुढ़े तक इसको पहचानते होंगे। इसका उपयोग जन्म से लेकर के जीवन के अंतिम संस्कार तक होता है।

यह बहुत छोटी सी वस्तु है। इसके पास लंबाई, चौड़ाई और मोटाई को लेकर एक आयताकार आकृति के अलावा कुछ नहीं। एक छोटी सी वस्तु छोटे से छोटे काम से लेकर के बड़े से बड़े कांड तक करता है। यह छोटी सी वस्तु संसार के प्रत्येक घर के गैस चूल्हे के ऊपर, मिट्टी चूल्हे के ऊपर, स्टोव के बर्नर पर मिल ही जाएंगे। और तो और इस आधुनिक युग में कहीं मिले या न मिले लेकिन प्रत्येक घर के देवी देवता वाले घर में अवश्य मिल जाएंगे।
इनका काम यह है कि खुद को जलकर दूसरे को जलाना। खुद को जलकर दूसरे का अंधेरा मिटाकर प्रकाश देना। इनका काम एक छोटी सी दीपक जलाने से लेकर के मोमबत्ती, अगरबत्ती के साथ-साथ अंतिम संस्कार के समय चिता में आग लगाने के लिए होता है। इस माचिस की एक छोटी सी तीली चाहे तो एक दीपक को जला सकता है और चाहे तो इस पूरे संसार को भी जला सकता है।
आप देखे होंगे की एक माचिस की बहुत सारे तिलियां होती है और उन सारी तीलियों के ऊपर एक गोलाकार मसाला चढ़ी हुई रहती है। जो एक रासायनिक पदार्थ है। उस रासायनिक पदार्थ का नाम पौटेशियम क्लोरेट है। साथ ही माचिस की डिब्बी के दोनों तरफ एक पट्टी आकार की रेड पट्टी लेप लगी हुई होती है जो लाल फास्फोरस और सल्फर जैसी रासायनिक पदार्थ की मिश्रण होती है। इसकी खूबसूरती यह है कि मात्र माचिस की डिब्बी और माचिस की तिल्ली को सही तरीके से एक दूसरे के ऊपर घर्षण किया जाए तो बस इतने ही में आग पकड़ लेती है। इस माचिस की करनी पर एक लोकोक्ति बहुत ही सूट करती है। कि “हम तो डूबेंगे सनम तुम्हें भी ले डूबेंगे” यानी “हम तो जलेंगे सनम तुम्हें भी जलाएंगे”।

चलिए, अब कुछ इसकी इतिहास के बारे में जानकारी ले लेते हैं। पहली बार माचिस बनाने का प्रयास 1680 ई० में की गई थी। उस समय राबर्ट बॉलय ने एक कागज के टुकड़े पर सफेद फास्फोरस लगाकर उसे सल्फर लगे कागज पर रखा। ऐसा करने पर उसमें आग पकड़ ली। पर पूरी तरह से माचिस बनाने में सफलता प्राप्त नहीं हुई। क्योंकि सफेद फास्फोरस बहुत ही कम तापमान पर आग पकड़ लेता है। इस तरह से माचिस काफी खतरनाक थी।

लेकिन माचिस का जो रूप आज है उसके बनने की शुरुआत 1845 ई० में की गई। जब रेड फास्फोरस की अविष्कार हो चुका था। पर फिर भी सफलता प्राप्त नहीं हुई। क्योंकि रेड फास्फोरस अपने आप आग नहीं पकड़ता है बल्कि रगड़ने पर आग पकड़ता है।

अंततः 1855 ई० में कार्ल लुंडस्टान ने पहली बार सेफ्टी माचिस स्वीडन में बनाई। जिसने तिल्ली पर पौटेशियम क्लोरेट रसायन तथा डिब्बी पर रेड फास्फोरस व सल्फर रसायन की मिश्रण का इस्तेमाल करके माचिस बनाई। माचिस की तीलियां डिब्बी पर रगड़ने से आसानी से जल उठती हैं पर अपने आप नहीं जलती, इसलिए खतरनाक भी नहीं होती हैं। जिसकी वजह से इसे सेफ्टी माचिस कहा गया।

इस तरह से हम जान गए कि माचिस की खोज कब, किसने और कहां किया? साथ ही मानव जीवन में माचिस का उपयोग कितना महत्वपूर्ण है?
——————-०००——————–
लेखक : जय लगन कुमार हैप्पी
बेतिया, बिहार।

1 Like · 752 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
या तो सच उसको बता दो
या तो सच उसको बता दो
gurudeenverma198
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
"काहे का स्नेह मिलन"
Dr Meenu Poonia
23/213. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/213. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मजबूरी नहीं जरूरी
मजबूरी नहीं जरूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मित्रता
मित्रता
जगदीश लववंशी
हम वो हिंदुस्तानी है,
हम वो हिंदुस्तानी है,
भवेश
ज़रूरतमंद की मदद
ज़रूरतमंद की मदद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
काफी लोगो ने मेरे पढ़ने की तेहरिन को लेकर सवाल पूंछा
काफी लोगो ने मेरे पढ़ने की तेहरिन को लेकर सवाल पूंछा
पूर्वार्थ
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
Shashi kala vyas
आंधियां* / PUSHPA KUMARI
आंधियां* / PUSHPA KUMARI
Dr MusafiR BaithA
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित , व छंद से सृजित विधाएं
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित , व छंद से सृजित विधाएं
Subhash Singhai
सर्दी
सर्दी
Dhriti Mishra
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
manjula chauhan
*सुभान शाह मियॉं की मजार का यात्रा वृत्तांत (दिनांक 9 मार्च
*सुभान शाह मियॉं की मजार का यात्रा वृत्तांत (दिनांक 9 मार्च
Ravi Prakash
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
आकाश महेशपुरी
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
भीष्म के उत्तरायण
भीष्म के उत्तरायण
Shaily
" फ़ौजी"
Yogendra Chaturwedi
मैं लिखता हूं..✍️
मैं लिखता हूं..✍️
Shubham Pandey (S P)
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
Jp yathesht
नेता खाते हैं देशी घी
नेता खाते हैं देशी घी
महेश चन्द्र त्रिपाठी
चैतन्य
चैतन्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ख़्वाब टूटा
ख़्वाब टूटा
Dr fauzia Naseem shad
असली परवाह
असली परवाह
*Author प्रणय प्रभात*
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
Rekha khichi
💐प्रेम कौतुक-426💐
💐प्रेम कौतुक-426💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कई बात अभी बाकी है
कई बात अभी बाकी है
Aman Sinha
Loading...