Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jan 2024 · 1 min read

मां

वक्त गुजरा तो गुज़र जाने दो,
घटाएं गम की खूब छाने दो।
दुवाएं मां की हैं मेरे साथ अभी,
मुझे तुम चैन से सो जाने दो।।

रूठ के जाना है तो जाओ ना,
दिल किसी और से बहलाओ ना।
मैने मां से सिखा है मुहब्बत करना,
जहां भी जाना, वहां जाओ ना।।

रिश्ता है, न शर्त है न ठेका है,
जिस अंगीठी पे हाथ सेका है।
मां सिखाई थी प्रेम में जलना,
जलाना प्रेम नहीं महज़ धोखा है।।

तू है औरत, मां भी तो एक औरत है,
तू बेगैरत, मेरी मां में कितनी गैरत है।
वजह है तू, मां ने घर छोड़ा ‘संजय’,
तू है रूबरू अभी भी, मुझे हैरत है।।

जै हिंद

Language: Hindi
2 Likes · 79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
23/55.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/55.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
“गुप्त रत्न”नहीं मिटेगी मृगतृष्णा कस्तूरी मन के अन्दर है,
गुप्तरत्न
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
*Author प्रणय प्रभात*
"Do You Know"
शेखर सिंह
डॉ. नामवर सिंह की रसदृष्टि या दृष्टिदोष
डॉ. नामवर सिंह की रसदृष्टि या दृष्टिदोष
कवि रमेशराज
हर चाह..एक आह बनी
हर चाह..एक आह बनी
Priya princess panwar
किसको सुनाऊँ
किसको सुनाऊँ
surenderpal vaidya
सफर है! रात आएगी
सफर है! रात आएगी
Saransh Singh 'Priyam'
बदलते रिश्ते
बदलते रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
shabina. Naaz
"शाम की प्रतीक्षा में"
Ekta chitrangini
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
मजबूरी
मजबूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुसुमित जग की डार...
कुसुमित जग की डार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
जब मित्र बने हो यहाँ तो सब लोगों से खुलके जुड़ना सीख लो
जब मित्र बने हो यहाँ तो सब लोगों से खुलके जुड़ना सीख लो
DrLakshman Jha Parimal
पत्र गया जीमेल से,
पत्र गया जीमेल से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बरखा
बरखा
Dr. Seema Varma
नहीं कभी होते अकेले साथ चलती है कायनात
नहीं कभी होते अकेले साथ चलती है कायनात
Santosh Khanna (world record holder)
किए जिन्होंने देश हित
किए जिन्होंने देश हित
महेश चन्द्र त्रिपाठी
💐प्रेम कौतुक-516💐
💐प्रेम कौतुक-516💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सदा सदाबहार हिंदी
सदा सदाबहार हिंदी
goutam shaw
कल चमन था
कल चमन था
Neelam Sharma
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सामाजिक न्याय के प्रश्न
सामाजिक न्याय के प्रश्न
Shekhar Chandra Mitra
क्या ये गलत है ?
क्या ये गलत है ?
Rakesh Bahanwal
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
satish rathore
वार्तालाप
वार्तालाप
Shyam Sundar Subramanian
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
Phool gufran
Loading...