Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jun 2023 · 1 min read

मां

मां
मां अपने आप में एक पूर्ण शब्द है।
घर में प्रवेश करते ही मुंह से निकलने वाला पहला
शब्द मां है।

मां में मातृत्व है।
मां में वात्सल्य है।
मां में निश्चल प्रेम है।
मां में करुणा है।
मां मैं त्याग है।
मां में साहस है।
मां में शीतलता है।
मां दयालुता है।

मां एक शिक्षक का रूप है।
मां एक ईश्वर का स्वरूप है।
मां एक आस है ,विश्वास है।
मां परिवार की हिम्मत और ताकत है।

मां में सहनशीलता है ।
मां में सद्भावना है।
मां जिंदगी के प्रत्येक प्रश्न का उत्तर भी मां है।

✍️ लेखक – अमृत लाल सुथार
रामगढ़

1 Like · 441 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
सपनों का सफर
सपनों का सफर
पूर्वार्थ
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
yuvraj gautam
2323.पूर्णिका
2323.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुझे मिले हैं जो रहमत उसी की वो जाने।
मुझे मिले हैं जो रहमत उसी की वो जाने।
सत्य कुमार प्रेमी
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
Phool gufran
वो दो साल जिंदगी के (2010-2012)
वो दो साल जिंदगी के (2010-2012)
Shyam Pandey
किताबों से ज्ञान मिलता है
किताबों से ज्ञान मिलता है
Bhupendra Rawat
"असली-नकली"
Dr. Kishan tandon kranti
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
जगदीश लववंशी
■ यक़ीन मानिएगा...
■ यक़ीन मानिएगा...
*Author प्रणय प्रभात*
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
Ravi Prakash
13, हिन्दी- दिवस
13, हिन्दी- दिवस
Dr Shweta sood
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
एक किताब खोलो
एक किताब खोलो
Dheerja Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
माँ की यादें
माँ की यादें
मनोज कर्ण
मालपुआ
मालपुआ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
माँ!
माँ!
विमला महरिया मौज
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
लक्ष्मी सिंह
देश और जनता~
देश और जनता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
आत्मविश्वास की कमी
आत्मविश्वास की कमी
Paras Nath Jha
Choose yourself in every situation .
Choose yourself in every situation .
Sakshi Tripathi
डा. तुलसीराम और उनकी आत्मकथाओं को जैसा मैंने समझा / © डा. मुसाफ़िर बैठा
डा. तुलसीराम और उनकी आत्मकथाओं को जैसा मैंने समझा / © डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Srishty Bansal
उसने आंखों में
उसने आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
किसी को इतना मत करीब आने दो
किसी को इतना मत करीब आने दो
कवि दीपक बवेजा
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
Poonam Matia
सड़कों पर दौड़ रही है मोटर साइकिलें, अनगिनत कार।
सड़कों पर दौड़ रही है मोटर साइकिलें, अनगिनत कार।
Tushar Jagawat
Loading...