Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 2 min read

मां

✍️ मां!
मां की कोई उम्र नहीं होती
मां बस मां होती है!
चिर युवा भी, चिर वृद्धा भी!!
छोटी उम्र में बच्चों की
देखभाल में खुद को भुला देती है।
और बूढ़ी होने पर भी
बच्चों के लिए दौड़भाग करती है।
अभी तो डांट रही थी
मैं तेरी मां नहीं,तू मेरा कुछ नहीं
भूखा सो जाने पर
चूमती है,पुचकारती है,
खुद से ही बड़बड़ाती,
खुद को ही कोसती है और
अंत में गले लगा, दुनिया भर का लाड़
उंड़ेल देती है मेरे गालों पर
वो बस जानती है दुलार
क्योंकि मां की कोई उम्र नहीं होती
मां तो बस मां होती है!
चिर युवा भी, चिर वृद्धा भी!!

मां नहीं जानती कोई शौक
उसे कोई साड़ी पसंद ही नहीं आती
और उन बचे पैसों को
दे देती है मेरी कॉलेज की
पिकनिक के लिए
मैंने कभी भी नहीं खरीदते देखा
उसे सोने की नई बाली या कंगन
क्योंकि वो जोड़ रही है पैसे
मेरी नई बाइक के लिए
मां के कोई शौक, पसंद भी नहीं होते
करती रहती है बस
व्रत अनुष्ठान, पूजा पाठ
हमारी सुख शांति और तरक्की के लिए
और एक दिन बस…..चली जाती है
क्योंकि मां! की कोई उम्र नहीं होती
मां बस मां होती है!
चिर युवा भी, चिर वृद्धा भी!

अपने बच्चों से अथाह प्रेम करती है।
जरा सी हिचकी क्या आई
छोड़ देती है खाने की थाली
पता नहीं क्या खाया होगा
दूर नौकरी पर,
कौन उसकी पसंद जानेगा
छोटी से फोन मिलवाती है
तसल्ली हो जाने पर ही
थाली का खाना गले से
उतार पाती है, साथ में
पिताजी के उलाहने भी पाती है
अब तो उसे, बड़ा बनने दो
मां बस रो देती है
क्योंकि मां की कोई उम्र नहीं होती
मां तो बस मां होती है!
चिर युवा भी, चिर वृद्धा भी!
___ मनु वाशिष्ठ, कोटा जंक्शन राजस्थान

Language: Hindi
1 Like · 321 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manu Vashistha
View all
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भ्रम अच्छा है
भ्रम अच्छा है
Vandna Thakur
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
Aryan Raj
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
Madhuri Markandy
खामोश कर्म
खामोश कर्म
Sandeep Pande
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोस्ती...
दोस्ती...
Srishty Bansal
"खामोशी"
Dr. Kishan tandon kranti
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
Jyoti Khari
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
Kanchan Alok Malu
3044.*पूर्णिका*
3044.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*जलयान (बाल कविता)*
*जलयान (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जो माता पिता के आंखों में आसूं लाए,
जो माता पिता के आंखों में आसूं लाए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरे सिवा कौन इतना, चाहेगा तुमको
मेरे सिवा कौन इतना, चाहेगा तुमको
gurudeenverma198
कुछ भी होगा, ये प्यार नहीं है
कुछ भी होगा, ये प्यार नहीं है
Anil chobisa
नज़रों में तेरी झाँकूँ तो, नज़ारे बाहें फैला कर बुलाते हैं।
नज़रों में तेरी झाँकूँ तो, नज़ारे बाहें फैला कर बुलाते हैं।
Manisha Manjari
खुद ही परेशान हूँ मैं, अपने हाल-ऐ-मज़बूरी से
खुद ही परेशान हूँ मैं, अपने हाल-ऐ-मज़बूरी से
डी. के. निवातिया
जेष्ठ अमावस माह का, वट सावित्री पर्व
जेष्ठ अमावस माह का, वट सावित्री पर्व
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
नेताम आर सी
सरकार हैं हम
सरकार हैं हम
pravin sharma
"राहे-मुहब्बत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ये
ये "परवाह" शब्द वो संजीवनी बूटी है
शेखर सिंह
बवंडर
बवंडर
Shekhar Chandra Mitra
" वाई फाई में बसी सबकी जान "
Dr Meenu Poonia
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अगर हो हिंदी का देश में
अगर हो हिंदी का देश में
Dr Manju Saini
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
आफ़त
आफ़त
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
डा गजैसिह कर्दम
Loading...