Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।

मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।
मां खुदा तो नपर खुदा सी होती है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मगरूर क्यों हैं
मगरूर क्यों हैं
Mamta Rani
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
Pramila sultan
जैसे
जैसे
Dr.Rashmi Mishra
मेरी आरज़ू है ये
मेरी आरज़ू है ये
shabina. Naaz
एक अजीब सी आग लगी है जिंदगी में,
एक अजीब सी आग लगी है जिंदगी में,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तमाशबीन जवानी
तमाशबीन जवानी
Shekhar Chandra Mitra
इंडियन विपक्ष
इंडियन विपक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क का भी आज़ार होता है।
इश्क का भी आज़ार होता है।
सत्य कुमार प्रेमी
फूल और तुम
फूल और तुम
Sidhant Sharma
माता की चौकी
माता की चौकी
Sidhartha Mishra
!! मुरली की चाह‌ !!
!! मुरली की चाह‌ !!
Chunnu Lal Gupta
23/31.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/31.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चाँद खिलौना
चाँद खिलौना
SHAILESH MOHAN
गाँधी जयंती
गाँधी जयंती
Surya Barman
निकलती हैं तदबीरें
निकलती हैं तदबीरें
Dr fauzia Naseem shad
हार हूँ
हार हूँ
Satish Srijan
वाह नेता जी!
वाह नेता जी!
Sanjay ' शून्य'
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
पूर्वार्थ
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
gurudeenverma198
“STORY MIRROR AUTHOR OF THE YEAR 2022”
“STORY MIRROR AUTHOR OF THE YEAR 2022”
DrLakshman Jha Parimal
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
२०२३
२०२३
Neelam Sharma
*राष्ट्र-क्षय से फिर विभाजन,आपदा आ जाएगी 【मुक्तक】*
*राष्ट्र-क्षय से फिर विभाजन,आपदा आ जाएगी 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
शाकाहारी
शाकाहारी
डिजेन्द्र कुर्रे
"साम","दाम","दंड" व् “भेद" की व्यथा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
प्राण प्रतीस्था..........
प्राण प्रतीस्था..........
Rituraj shivem verma
💐अज्ञात के प्रति-109💐
💐अज्ञात के प्रति-109💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सौ बार मरता है
सौ बार मरता है
sushil sarna
नया  साल  नई  उमंग
नया साल नई उमंग
राजेंद्र तिवारी
सावरकर ने लिखा 1857 की क्रान्ति का इतिहास
सावरकर ने लिखा 1857 की क्रान्ति का इतिहास
कवि रमेशराज
Loading...