Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2022 · 1 min read

मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)

मां तो मां होती है ,
चाहे इंसान हो या जानवर ।
जन्म देकर लालन पालन करे ,
देखभाल करे वोह निरंतर.

हां ! अंदाज अलग अलग हो सकता है ,
मगर होता तो आंखों से जाहिर है ।
कोई स्नेह से गले लगाए ,हाथ फेरे सिर पर,
तो कोई जुबान से ,प्यार तो प्यार है ।

फिक्र जितनी मनुष्य मां को होती ,
क्या पशु मां को नहीं होती होगी ।
दूर हो संतान तो बेचैन रहती हर पल ,
क्या वोह चैन से है सो पाती ?

मनुष्य मां देती अपनी संतान को ,
संस्कार ,अनुशासन और मनुष्यता और शिक्षा दीक्षा।
तो पशु पक्षियों में भी मां सिखाती ,
आत्म निर्भर बनना, और लेती कठिन परीक्षा ।

दर्द तो दोनो को होता है ना जन्म देने पर ,
वोह अलग बात है एक कराह सकती है ।
और दूजी बेजुबान सहती खामोशी से,
मगर प्रथम स्पर्श पाकर सब भूल जाती है ।

मनुष्य मां की संतान यदि कोई छीन ले,
मृत्यु या शैतान कोई ।
तड़प उठती है रोती है बिलखती है ,
पीड़ा में तो फर्क नहीं कोई ।

ममता तो सार्वभौम और विश्व व्यापी भावना है ,
इसमें न कोई भेद है यह शाश्वत है ।
मनुष्य मात्र की ही नही ,यह सारी प्रकृति की ,
और धरती माता की भी आत्मा है ।

अतः मां चाहे कोई भी हो ,
उसका आदर करो ।
उसकी पवित्र भावनाओं का ,
सम्मान करो ।

Language: Hindi
2 Likes · 6 Comments · 1154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
2690.*पूर्णिका*
2690.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ख्याल
ख्याल
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
शक्तिशालिनी
शक्तिशालिनी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
सुनी चेतना की नहीं,
सुनी चेतना की नहीं,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
किस तरह से गुज़र पाएँगी
किस तरह से गुज़र पाएँगी
हिमांशु Kulshrestha
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ Rãthí
बीमार समाज के मसीहा: डॉ अंबेडकर
बीमार समाज के मसीहा: डॉ अंबेडकर
Shekhar Chandra Mitra
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
“मां बनी मम्मी”
“मां बनी मम्मी”
पंकज कुमार कर्ण
जो बिकता है!
जो बिकता है!
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
निंदा और निंदक,प्रशंसा और प्रशंसक से कई गुना बेहतर है क्योंक
निंदा और निंदक,प्रशंसा और प्रशंसक से कई गुना बेहतर है क्योंक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
*जो भी अपनी खुशबू से इस, दुनिया को महकायेगा (हिंदी गजल)*
*जो भी अपनी खुशबू से इस, दुनिया को महकायेगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
■ ठीक नहीं आसार
■ ठीक नहीं आसार
*Author प्रणय प्रभात*
फिर पर्दा क्यूँ है?
फिर पर्दा क्यूँ है?
Pratibha Pandey
मन राम हो जाना ( 2 of 25 )
मन राम हो जाना ( 2 of 25 )
Kshma Urmila
पनघट और पगडंडी
पनघट और पगडंडी
Punam Pande
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
Manisha Manjari
World Environmental Day
World Environmental Day
Tushar Jagawat
जनतंत्र
जनतंत्र
अखिलेश 'अखिल'
वक्त थमा नहीं, तुम कैसे थम गई,
वक्त थमा नहीं, तुम कैसे थम गई,
लक्ष्मी सिंह
आता एक बार फिर से तो
आता एक बार फिर से तो
Dr Manju Saini
सब कुछ यूं ही कहां हासिल है,
सब कुछ यूं ही कहां हासिल है,
manjula chauhan
नारी जगत आधार....
नारी जगत आधार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
अभिमान
अभिमान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
घोंसले
घोंसले
Dr P K Shukla
शर्ट के टूटे बटन से लेकर
शर्ट के टूटे बटन से लेकर
Ranjeet kumar patre
तुमसा तो कान्हा कोई
तुमसा तो कान्हा कोई
Harminder Kaur
Loading...