Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

मां कृपा दृष्टि कर दे

मां शारदे अपनी कृपा दृष्टि कर दे
हे! वीणा पाणिनी वर दे माँ,
विद्या बुद्धि यश दे माँ ।
ज्ञान सुधा रस दे माँ,
हे! जग जननी देवी शारदे माँ, कृपा दृष्टि कर दे।
शब्द कोश अक्षय दे माँ ।
कर रवि ज्ञानोदय दे माँ,
झंकृत संगीत के सुर दे माँ , कृपा दृष्टि कर दे।
हे!मयूर वाहिनी व्योम प्रसारिणी,
अनुनय और विनय दे माँ ।
जनजीवन को अलंकृत कर दे माँ,
निज कृपा कौर से सुमति दे माँ, कृपा दृष्टि कर दे।
हे! हंसवाहिनी धवल वस्त्रधारणी,
जन-गण-मन को जय दे माँ ।
सदगुणों का अभयदान दे माँ,
हृदय तिमिर विनाशनि वर दे माँ कृपा दृष्टि कर दे।
सीमा गुप्ता, अलवर राजस्थान

Language: Hindi
89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
शांति चाहिये...? पर वो
शांति चाहिये...? पर वो "READY MADE" नहीं मिलती "बनानी" पड़ती
पूर्वार्थ
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Sukoon
किस कदर
किस कदर
हिमांशु Kulshrestha
*घर*
*घर*
Dushyant Kumar
राम का न्याय
राम का न्याय
Shashi Mahajan
https://youtube.com/@pratibhaprkash?si=WX_l35pU19NGJ_TX
https://youtube.com/@pratibhaprkash?si=WX_l35pU19NGJ_TX
Dr.Pratibha Prakash
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
#हंड्रेड_परसेंट_गारंटी
#हंड्रेड_परसेंट_गारंटी
*प्रणय प्रभात*
"अर्द्धनारीश्वर"
Dr. Kishan tandon kranti
राहत के दीए
राहत के दीए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माँ की अभिलाषा 🙏
माँ की अभिलाषा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2757. *पूर्णिका*
2757. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक सच और सोच
एक सच और सोच
Neeraj Agarwal
देखकर उन्हें हम देखते ही रह गए
देखकर उन्हें हम देखते ही रह गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
जिन्दगी की यात्रा में हम सब का,
जिन्दगी की यात्रा में हम सब का,
नेताम आर सी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
तुमसा तो कान्हा कोई
तुमसा तो कान्हा कोई
Harminder Kaur
*खिलना सीखो हर समय, जैसे खिले गुलाब (कुंडलिया)*
*खिलना सीखो हर समय, जैसे खिले गुलाब (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बदलती हवाओं का स्पर्श पाकर कहीं विकराल ना हो जाए।
बदलती हवाओं का स्पर्श पाकर कहीं विकराल ना हो जाए।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
विश्वकप-2023 टॉप स्टोरी
विश्वकप-2023 टॉप स्टोरी
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
माता - पिता
माता - पिता
Umender kumar
डर लगता है।
डर लगता है।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
अनपढ़ सी
अनपढ़ सी
SHAMA PARVEEN
अपने ख्वाबों से जो जंग हुई
अपने ख्वाबों से जो जंग हुई
VINOD CHAUHAN
* बेटियां *
* बेटियां *
surenderpal vaidya
**जिंदगी की टूटी लड़ी है**
**जिंदगी की टूटी लड़ी है**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
क्या कहें
क्या कहें
Dr fauzia Naseem shad
"" *नारी* ""
सुनीलानंद महंत
Loading...