Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 6, 2022 · 1 min read

मां की महानता

कैसा सुंदर प्यारा प्यारा ,
मां से ही तो है जग सारा l
मां जन्म देती ममता को,
मां ही बनती पालनहारा ।।
मां के आंचल में ही पलते,
शेर सरीखे बालक वीर ।
धरती को है मां का दर्जा ,
पालन करती छाती चीर ।।
मां अपने बच्चों खातिर,
शेर से भी भीड़ जाती है ।
जाने अनजाने कभी-कभी,
पति से भी लड़ जाती है।।
बच्चों के भविष्य खातिर,
कड़ी मेहनत करती है ।
खुशियां बांटती बच्चों को,
पर खुद दुख सहती है।।
अपनी खुशियों को दबाकर ,
बच्चों पर देती रहती ध्यान ।
बस यही होती एक चाहत,
मेरे बेटे बने खूब महान।।
मां से मिले संस्कारों कारण,
बेटों ने है जग को जीता ।
सतपाल सत्य का सारथी ,
जसै सरिता बनी पविता।।

6 Likes · 8 Comments · 384 Views
You may also like:
चाँद
विजय कुमार अग्रवाल
लिखता जा रहा है वह
gurudeenverma198
" जय हो "
DrLakshman Jha Parimal
मजदूर.....
Chandra Prakash Patel
पूर्ण विराम से प्रश्नचिन्ह तक
Saraswati Bajpai
जिन्दगी।
Taj Mohammad
शैशव की लयबद्ध तरंगे
Rashmi Sanjay
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
✍️✍️रूपया✍️✍️
'अशांत' शेखर
सच्चा रिश्ता
DESH RAJ
इश्क ए उल्फत।
Taj Mohammad
सर्वश्रेष्ठ
Seema 'Tu haina'
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
तुम्हें डर कैसा .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
दिन जल्दी से
नंदन पंडित
समाजसेवा
Kanchan Khanna
आदर्श पिता
Sahil
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
मोहब्बत के गम ने।
Taj Mohammad
क़ौल ( प्रण )
Shyam Sundar Subramanian
जाति- पाति, भेद- भाव
AMRESH KUMAR VERMA
डॉक्टर की दवाई
Buddha Prakash
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
✍️✍️हौंसला✍️✍️
'अशांत' शेखर
आरजू
Kanchan Khanna
नफरत है मुझे
shabina. Naaz
भोजन
Vikas Sharma'Shivaaya'
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
तिरंगा मेरी जान
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...