Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2022 · 1 min read

मां की महानता

कैसा सुंदर प्यारा प्यारा ,
मां से ही तो है जग सारा l
मां जन्म देती ममता को,
मां ही बनती पालनहारा ।।
मां के आंचल में ही पलते,
शेर सरीखे बालक वीर ।
धरती को है मां का दर्जा ,
पालन करती छाती चीर ।।
मां अपने बच्चों खातिर,
शेर से भी भीड़ जाती है ।
जाने अनजाने कभी-कभी,
पति से भी लड़ जाती है।।
बच्चों के भविष्य खातिर,
कड़ी मेहनत करती है ।
खुशियां बांटती बच्चों को,
पर खुद दुख सहती है।।
अपनी खुशियों को दबाकर ,
बच्चों पर देती रहती ध्यान ।
बस यही होती एक चाहत,
मेरे बेटे बने खूब महान।।
मां से मिले संस्कारों कारण,
बेटों ने है जग को जीता ।
सतपाल सत्य का सारथी ,
जसै सरिता बनी पविता।।

Language: Hindi
8 Likes · 9 Comments · 843 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from SATPAL CHAUHAN
View all
You may also like:
संकल्प
संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अब तो रिहा कर दो अपने ख्यालों
अब तो रिहा कर दो अपने ख्यालों
शेखर सिंह
मेरी-तेरी पाती
मेरी-तेरी पाती
Ravi Ghayal
जिन्दगी का मामला।
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
रूह की अभिलाषा🙏
रूह की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
पूर्वार्थ
भूख
भूख
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Mere shaksiyat  ki kitab se ab ,
Mere shaksiyat ki kitab se ab ,
Sakshi Tripathi
सन्यासी का सच तप
सन्यासी का सच तप
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मात पिता को तुम भूलोगे
मात पिता को तुम भूलोगे
DrLakshman Jha Parimal
"सच्चाई"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हें प्यार करते हैं
तुम्हें प्यार करते हैं
Mukesh Kumar Sonkar
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वक्त को यू बीतता देख लग रहा,
वक्त को यू बीतता देख लग रहा,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
तुम न जाने कितने सवाल करते हो।
तुम न जाने कितने सवाल करते हो।
Swami Ganganiya
गर्भपात
गर्भपात
Bodhisatva kastooriya
चालें बहुत शतरंज की
चालें बहुत शतरंज की
surenderpal vaidya
गिला,रंजिशे नाराजगी, होश मैं सब रखते है ,
गिला,रंजिशे नाराजगी, होश मैं सब रखते है ,
गुप्तरत्न
स्त्री
स्त्री
Shweta Soni
#फर्क_तो_है
#फर्क_तो_है
*Author प्रणय प्रभात*
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
*अध्याय 2*
*अध्याय 2*
Ravi Prakash
यह तो होता है दौर जिंदगी का
यह तो होता है दौर जिंदगी का
gurudeenverma198
ये जो उच्च पद के अधिकारी है,
ये जो उच्च पद के अधिकारी है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
3092.*पूर्णिका*
3092.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हे महादेव
हे महादेव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
निगाहों से पूछो
निगाहों से पूछो
Surinder blackpen
"प्यासा"के गजल
Vijay kumar Pandey
चौथापन
चौथापन
Sanjay ' शून्य'
सच तो आज न हम न तुम हो
सच तो आज न हम न तुम हो
Neeraj Agarwal
Loading...