Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

माँ

माँ, पृथ्वी होती है
सुबह से शाम तक
परिवार को बाॅंधे
धुरी पर घूमती है।
प्यार से भोजन बना
स्नेह ममता उडेल
सभी सदस्यों को
खाना परोसती है।
माँ! कपड़ों का ही नहीं
अपने अनुभव से
मन का कलुष भी
स्वत: ही धोती है।
घर का‌‌ ऑंगन और
‍‌सिर्फ घर ही नहीं
संतान का व्यक्तित्व भी
झाड़ती-पौंछती है।
प्रतिफल में पाकर
पति की डॉंट
पुत्रों की झल्लाहट
अन्तर में ही रोती है।
फिर भी सहजता से
उनकी उन्नति के लिए
सब कुछ सहकर
एक ही माला में पिरोती है।
जैसे पृथ्वी
सब कुछ सहकर भी
सभी जीवों का
पालन-पोषण करती है।

—प्रतिभा आर्य
चेतन एनक्लेव,
अलवर(राजस्थान)

Language: Hindi
1 Like · 272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
View all
You may also like:
रविवार को छुट्टी भाई (समय सारिणी)
रविवार को छुट्टी भाई (समय सारिणी)
Jatashankar Prajapati
■ पुरानी कढ़ी में नया उवाल
■ पुरानी कढ़ी में नया उवाल
*Author प्रणय प्रभात*
यादों के छांव
यादों के छांव
Nanki Patre
कलम की ताकत और कीमत को
कलम की ताकत और कीमत को
Aarti Ayachit
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
Mahender Singh Manu
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
Mukesh Kumar Sonkar
बेङ्ग आ टिटही (मैथिली लघुकथा)
बेङ्ग आ टिटही (मैथिली लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*राम-सिया के शुभ विवाह को, सौ-सौ बार प्रणाम है (गीत)*
*राम-सिया के शुभ विवाह को, सौ-सौ बार प्रणाम है (गीत)*
Ravi Prakash
💐अज्ञात के प्रति-37💐
💐अज्ञात के प्रति-37💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जाति बनाम जातिवाद।
जाति बनाम जातिवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
बुंदेली दोहा- पैचान१
बुंदेली दोहा- पैचान१
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चिल्हर
चिल्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
मेरे दुश्मन है बहुत ही
मेरे दुश्मन है बहुत ही
gurudeenverma198
गिलहरी
गिलहरी
Satish Srijan
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
Sarfaraz Ahmed Aasee
ईश्वर का घर
ईश्वर का घर
Dr MusafiR BaithA
डाल-डाल तुम हो कर आओ
डाल-डाल तुम हो कर आओ
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
2799. *पूर्णिका*
2799. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुकर्म से ...
सुकर्म से ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फूल रहा जमकर फागुन,झूम उठा मन का आंगन
फूल रहा जमकर फागुन,झूम उठा मन का आंगन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
महंगाई नही बढ़ी खर्चे बढ़ गए है
महंगाई नही बढ़ी खर्चे बढ़ गए है
Ram Krishan Rastogi
हरे भरे खेत
हरे भरे खेत
जगदीश लववंशी
ज़िंदगी तो ज़िंदगी
ज़िंदगी तो ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
Ray's Gupta
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
Buddha Prakash
इश्क में खुद को ही बीमार किया है तुमने।
इश्क में खुद को ही बीमार किया है तुमने।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
देशज से परहेज
देशज से परहेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वादा  प्रेम   का  करके ,  निभाते  रहे   हम।
वादा प्रेम का करके , निभाते रहे हम।
Anil chobisa
Loading...