Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2017 · 1 min read

माँ

‘माँ’

निकलती है
सबेरे-सबेरे
अकेले-अकेले
ले बुढ़ौती का सहारा
ठेगनी छड़ी
माँ !
पास वाले पार्क में
जहाँ फूलों से बतियाती
तितली और भँवरे होते
खेलती मदमस्त हवा
बाँटती वह
अपना सुख-दुःख,विचार,सुझाव
हल्का करती मन का भारीपन
जिन्दगी का खटर-पटर
घुटघुट
एकांत वातावरण से
रुँधे गले और भीगी पलकों से
अक्सर
माँ एक व्यथा है
माँ एक व्यवस्था है
माँ एक अवस्था है
माँ एक प्रथा है
माँ एक कथा है

घुसती है वह
फूलों की क्यारी में
तोड़ने
श्रद्धा के फूल
मोहक-मनमोहक
सुहावने-लुभावने
ललचावने
चढ़ाने के लिये
चुन-चुन
आस्था को
भूलकर सांसारिक मोह
माँ एक अर्चन है
माँ एक अर्जन है
माँ एक सर्जन है
माँ एक समर्पण है
माँ एक समर्थन है

चढाती है
श्रम की आँच पर
जीवन की पतीली
पानी-पसीना
चौड़ा सीना
सिखाती जीना
चढ़ना जीना
घर और बाहर
एक कर
खेतों से लाती
हरिअरी की खाँच
बोल-बोल झूठ
बोल-बोल साँच
आने न देती
बचपन पर आँच
माँ एक जीना है
माँ एक सीना है
माँ एक ताथैया-तीना है
माँ एक अमृत पीना है
माँ एक पसीना है

गाती है लोरी
सुलाती है बचपन को
बुलाती यौवन को
रोज का उठौना
करना तेल और उबटन
अंजन-वंदन
जंतर-मंतर
तीज-ताबीज
डिठौना
लौना-लकड़ी
चौका-बासन
लोटा-पानी
गोबर-सानी
पूजा-घानी
दही–मथानी
माँ एक अर्ज है
माँ एक गर्ज है
माँ एक कर्ज है
माँ एक तर्ज है
माँ एक फर्ज है

शिवानन्द सिंह ‘सहयोगी’
मेरठ
(सर्वाधिकार सुरक्षित)

Language: Hindi
428 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुशियां
खुशियां
N manglam
कितने भारत
कितने भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
चेहरे पे लगा उनके अभी..
चेहरे पे लगा उनके अभी..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
3134.*पूर्णिका*
3134.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
Phool gufran
सोच की अय्याशीया
सोच की अय्याशीया
Sandeep Pande
*जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)*
*जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
Shweta Soni
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
आर.एस. 'प्रीतम'
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
Vijay Nayak
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
पूर्वार्थ
जब भी मनचाहे राहों ने रुख मोड़ लिया
जब भी मनचाहे राहों ने रुख मोड़ लिया
'अशांत' शेखर
मां सीता की अग्नि परीक्षा ( महिला दिवस)
मां सीता की अग्नि परीक्षा ( महिला दिवस)
Rj Anand Prajapati
*इश्क़ से इश्क़*
*इश्क़ से इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पढ़ने को आतुर है,
पढ़ने को आतुर है,
Mahender Singh
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
Lokesh Singh
राजर्षि अरुण की नई प्रकाशित पुस्तक
राजर्षि अरुण की नई प्रकाशित पुस्तक "धूप के उजाले में" पर एक नजर
Paras Nath Jha
"दण्डकारण्य"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
हिन्दी के साधक के लिए किया अदभुत पटल प्रदान
Dr.Pratibha Prakash
सेंगोल और संसद
सेंगोल और संसद
Damini Narayan Singh
*कमाल की बातें*
*कमाल की बातें*
आकांक्षा राय
गीत गाऊ
गीत गाऊ
Kushal Patel
Love is a physical modern time.
Love is a physical modern time.
Neeraj Agarwal
दर्द
दर्द
Bodhisatva kastooriya
कुछ समय पहले तक
कुछ समय पहले तक
*Author प्रणय प्रभात*
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जीवनमंथन
जीवनमंथन
Shyam Sundar Subramanian
Many more candles to blow in life. Happy birthday day and ma
Many more candles to blow in life. Happy birthday day and ma
DrLakshman Jha Parimal
Loading...