Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2018 · 1 min read

माँ से बिछड़कर जायें कहाँ

तुझसे बिछड़कर जायें कहाँ?

माँ के आँचल से बिछड़कर जायेंगे कहाँ,
माँ के जैसा दूजा नही कोई है यहाँ।।।

माँ की छत्र छाया सदा मैं पाती रहूँ,
माँ के साथ दुनिया में खुशियों के संग रहती रहूँ।।

माँ शब्द से ही मुझें भगवान के दर्शन हो जाते है,
माँ की ममता पाकर भी दुष्ट कपूत भी सपूत हो जाते है।

माँ का जब आशीष मिल जाता है मुझें,
फिर नही कोई दुःख सताता है मुझें।।।

जिनकी माँ नही होती उनसे पूछो माँ का दर्द क्या होता है।
घुटन भरी जिंदगी से मन बहुत दुःख झेलकर सोता है।

माना कि विधाता ने सबको एक जैसा नही बनाया,
माँ की जिसको मिलती रहमत तो उज्जवल हो जाती है काया।।।।

सोनू करलो ममतामयी माँ का जीवन भर गुणगान,
दुनिया मे मिलता रहेगा सदा तुझे सम्मान।।।।

मत करो माँ- बाप का कोई भी तिरस्कार,
जन्नत सी दुनिया मे आने का जिसने दिया है हम सबको अधिकार।।।।।

रचनाकार गायत्री सोनू जैन मंदसौर
कॉपीराइट सुरक्षित

Language: Hindi
357 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा" से भी बड़ा सवाल-
*प्रणय प्रभात*
आंधी
आंधी
Aman Sinha
कभी खामोश रहता है, कभी आवाज बनता है,
कभी खामोश रहता है, कभी आवाज बनता है,
Rituraj shivem verma
When conversations occur through quiet eyes,
When conversations occur through quiet eyes,
पूर्वार्थ
गांव का दृश्य
गांव का दृश्य
Mukesh Kumar Sonkar
// ॐ जाप //
// ॐ जाप //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
जय लगन कुमार हैप्पी
3119.*पूर्णिका*
3119.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर गम दिल में समा गया है।
हर गम दिल में समा गया है।
Taj Mohammad
This Is Hope
This Is Hope
Otteri Selvakumar
मेरा प्यार तुझको अपनाना पड़ेगा
मेरा प्यार तुझको अपनाना पड़ेगा
gurudeenverma198
ख़ुशबू आ रही है मेरे हाथों से
ख़ुशबू आ रही है मेरे हाथों से
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
Sarfaraz Ahmed Aasee
कविता - छत्रछाया
कविता - छत्रछाया
Vibha Jain
आंखों में भरी यादें है
आंखों में भरी यादें है
Rekha khichi
कहानी, बबीता की ।
कहानी, बबीता की ।
Rakesh Bahanwal
हद
हद
Ajay Mishra
क्या खोया क्या पाया
क्या खोया क्या पाया
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मर्द
मर्द
Shubham Anand Manmeet
विध्वंस का शैतान
विध्वंस का शैतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शातिर दुनिया
शातिर दुनिया
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
*जिंदगी के अनोखे रंग*
*जिंदगी के अनोखे रंग*
Harminder Kaur
राजस्थानी भाषा में
राजस्थानी भाषा में
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सपने
सपने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
**कहीं कोई कली खिलती बहारों की**
**कहीं कोई कली खिलती बहारों की**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मुझसे मिलने में तुम्हें,
मुझसे मिलने में तुम्हें,
Dr. Man Mohan Krishna
-- फिर हो गयी हत्या --
-- फिर हो गयी हत्या --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*चलो अयोध्या रामलला के, दर्शन करने चलते हैं (भक्ति गीत)*
*चलो अयोध्या रामलला के, दर्शन करने चलते हैं (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
" चुस्की चाय की संग बारिश की फुहार
Dr Meenu Poonia
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
sushil sarna
Loading...