Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..

#जयमाँ
मां सरस्वती अन्तर्मन में,
इक बार तु दर्शन दे दो मांँ।
यह भाग्य मेरा सुधर जाये,
मम मस्तक चंदन दे दो मांँ।
मै आँख मे निज तुझे ढूँढूँ ,
मुझे ज्ञान अंजन दे दो मांँ
माँ सरस्वती अन्तर्मन में,
इक बार तु दर्शन दे दो मांँ।
माँ मेरी पहुँच नही तुझ तक,
उर कंटक संकट दूर करो।
राहों पे ज्ञान के चलता रहूं,
गति कम ना हो मति गूढ़ भरो।
मैं माया में ना खो जाऊं,
मुझमें इक सज्जन दे दो मां।।
माँ सरस्वती अन्तर्मन में,
इक बार तु दर्शन दे दो मांँ।
मन देश काल का ध्यान रखे,
दुश्मन आँखों का भान रखे।
हर वर्णों में हर शब्दों में
तलवार लें और म्यान ‌‌ रखें।
मैं तेरा नित वन्दन गाऊं,
ऐसा इक वन्दन दे दो माँ।
मांँ सरस्वती अन्तर्मन में,
इक बार तु दर्शन दे दो मांँ
हर रोग शोक से दूर रहूं,
मां भक्ति भाव सम्पूर्ण रहूं ।
हृदय तम से हो दूर सदा ,
तेरी इच्छा अनुरूप रहूं।
मैं रोऊं तो मुझे सुन रहे
ऐसा ही क्रंदन दे दो मां ।
माँ सरस्वती अन्तर्मन में,
इक बार तु दर्शन दे दो मांँ।
–‘प्यासा’

Language: Hindi
45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
Chandra Kanta Shaw
23/209. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/209. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उसकी जुबाँ की तरकश में है झूठ हजार
उसकी जुबाँ की तरकश में है झूठ हजार
'अशांत' शेखर
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
Rj Anand Prajapati
नींद और ख्वाब
नींद और ख्वाब
Surinder blackpen
शार्टकट
शार्टकट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कैसा जुल्म यह नारी पर
कैसा जुल्म यह नारी पर
Dr. Kishan tandon kranti
हर एक से छूटा है राहों में अक्सर.......
हर एक से छूटा है राहों में अक्सर.......
कवि दीपक बवेजा
बुंदेली दोहा संकलन बिषय- गों में (मन में)
बुंदेली दोहा संकलन बिषय- गों में (मन में)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कार्ल मार्क्स
कार्ल मार्क्स
Shekhar Chandra Mitra
मंहगाई  को वश में जो शासक
मंहगाई को वश में जो शासक
DrLakshman Jha Parimal
सदा प्रसन्न रहें जीवन में, ईश्वर का हो साथ।
सदा प्रसन्न रहें जीवन में, ईश्वर का हो साथ।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक अच्छी जिंदगी जीने के लिए पढ़ाई के सारे कोर्स करने से अच्छा
एक अच्छी जिंदगी जीने के लिए पढ़ाई के सारे कोर्स करने से अच्छा
Dr. Man Mohan Krishna
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
ऐ ज़िंदगी।
ऐ ज़िंदगी।
Taj Mohammad
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
अंतिम एहसास
अंतिम एहसास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ruby kumari
जिन्दगी से भला इतना क्यूँ खौफ़ खाते हैं
जिन्दगी से भला इतना क्यूँ खौफ़ खाते हैं
Shweta Soni
#सामयिक ग़ज़ल
#सामयिक ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
राम राज्य
राम राज्य
Shriyansh Gupta
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
VINOD CHAUHAN
वृक्ष बड़े उपकारी होते हैं,
वृक्ष बड़े उपकारी होते हैं,
अनूप अम्बर
तुम जो हमको छोड़ चले,
तुम जो हमको छोड़ चले,
कृष्णकांत गुर्जर
गौरैया
गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
।। निरर्थक शिकायतें ।।
।। निरर्थक शिकायतें ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
राष्ट्र भाषा राज भाषा
राष्ट्र भाषा राज भाषा
Dinesh Gupta
Loading...