Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

माँ शारदे

माॅं शारदे यह वरदान दे,
दिव्य वाणी व दिव्य दान दे।
मिटा दे मन के ये अंधेरे,
लगा दे फिर ज्योति के डेरे।
हर दिशा में खुशियाॅं बिखेरे,
नव प्रकाश और नव गान‌ दे।
माॅं शारदे यह वरदान दे,
दिव्य वाणी व दिव्य दान दे।
है विशाल इस जगती का नभ,
आतुर है अब प्राणों का खग।
दे उत्साह से परिपूरण पर,
नव कल्पना व नव उड़ान दे।
माॅं शारदे यह वरदान दे,
दिव्य वाणी व दिव्य दान दे।
सभी को गले लगा सके माॅं,
हम गीत सृजन के गा सके माॅं।
हर जिंदगी में मधु घोल दे,
नव प्रतिभा और नव ज्ञान दे।
माॅं शारदे यह वरदान दे,
दिव्य वाणी व दिव्य दान दे।
हम अन्याय नहीं सह सके माॅं,
हम सत्य पे दृढ़ रह सके माॅं।
कर्तव्य से मुॅंह न मोड़े,
नव साहस और नव प्राण दे।
माॅं शारदे यह वरदान दे,
दिव्य वाणी व दिव्य दान दे।

—प्रतिभा आर्य
चेतन एनक्लेव,
अलवर(राजस्थान)

2 Likes · 222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
View all
You may also like:
मन डूब गया
मन डूब गया
Kshma Urmila
रिश्ते वही अनमोल
रिश्ते वही अनमोल
Dr fauzia Naseem shad
तितली के तेरे पंख
तितली के तेरे पंख
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
डियर कामरेड्स
डियर कामरेड्स
Shekhar Chandra Mitra
कैलाशा
कैलाशा
Dr.Pratibha Prakash
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" आज चाँदनी मुस्काई "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
डर के आगे जीत है
डर के आगे जीत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सताया ना कर ये जिंदगी
सताया ना कर ये जिंदगी
Rituraj shivem verma
स्त्री न देवी है, न दासी है
स्त्री न देवी है, न दासी है
Manju Singh
किन्नर व्यथा...
किन्नर व्यथा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
3218.*पूर्णिका*
3218.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कलियुग
कलियुग
Bodhisatva kastooriya
हिन्दी दोहा -जगत
हिन्दी दोहा -जगत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
" नेतृत्व के लिए उम्र बड़ी नहीं, बल्कि सोच बड़ी होनी चाहिए"
नेताम आर सी
*तुलसी तुम्हें प्रणाम : कुछ दोहे*
*तुलसी तुम्हें प्रणाम : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
पापा के वह शब्द..
पापा के वह शब्द..
Harminder Kaur
मोहब्बत
मोहब्बत
Shriyansh Gupta
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
और तुम कहते हो मुझसे
और तुम कहते हो मुझसे
gurudeenverma198
दिल कि आवाज
दिल कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐प्रेम कौतुक-164💐
💐प्रेम कौतुक-164💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
#आज_की_चौपाई-
#आज_की_चौपाई-
*Author प्रणय प्रभात*
कोई किसी से सुंदरता में नहीं कभी कम होता है
कोई किसी से सुंदरता में नहीं कभी कम होता है
Shweta Soni
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
"चुल्लू भर पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
औरतें
औरतें
Kanchan Khanna
जिन सपनों को पाने के लिए किसी के साथ छल करना पड़े वैसे सपने
जिन सपनों को पाने के लिए किसी के साथ छल करना पड़े वैसे सपने
Paras Nath Jha
Loading...