Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2018 · 1 min read

छात्रों की आवाज।

#एक छोटी सी लेखनी।

एक दिन सहसा सूरज निकला, फिर क्या हुआ ?

उगते सूरज की लाली छाई, बच्चो की आवाज सुनाई।
उमड़ पड़ी उनसब की कतार, ये कैसी उमंग है लाई।।

हमने पूछा कहाँ चले सब, बच्चो ने एक बात बताई।
माँ शारदा के प्रांगण में, हमे अब करनी है पढाई।।

मत करो परवाह गैरो का, झेलो जंजीर छलांग लगाई।
संभालो अपने कदमो को, आगे हो सकती है गहराई।।

बिन बजरंगी श्री राम का, यज्ञ नाही पूरन होइ पाई।
हासिल कर इक मुकाम नया, हमने ये बच्चो को सिखाई।।

दीप्त करो तिमिर हयात ,हिम्मत की अपनी कलम उठाई।
किताबो के पन्नो में, दो तुम सारी जीवन बिताई।।

कुमार अनु ओझा

Language: Hindi
4 Likes · 1 Comment · 633 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
ଅଦିନ ଝଡ
ଅଦିନ ଝଡ
Bidyadhar Mantry
परिभाषा संसार की,
परिभाषा संसार की,
sushil sarna
प्यार की चंद पन्नों की किताब में
प्यार की चंद पन्नों की किताब में
Mangilal 713
खैरात बांटने वाला भी ख़ुद भिखारी बन जाता है,
खैरात बांटने वाला भी ख़ुद भिखारी बन जाता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जन्म से
जन्म से
Santosh Shrivastava
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---4. ‘विरोध-रस’ के अन्य आलम्बन- +रमेशराज
कवि रमेशराज
আমি তোমাকে ভালোবাসি
আমি তোমাকে ভালোবাসি
Otteri Selvakumar
ऐसी थी बेख़्याली
ऐसी थी बेख़्याली
Dr fauzia Naseem shad
सीधी मुतधार में सुधार
सीधी मुतधार में सुधार
मानक लाल मनु
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
पूर्वार्थ
2843.*पूर्णिका*
2843.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन मुकुर
मन मुकुर
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
রাধা মানে ভালোবাসা
রাধা মানে ভালোবাসা
Arghyadeep Chakraborty
देश-प्रेम
देश-प्रेम
कवि अनिल कुमार पँचोली
झूठी हमदर्दियां
झूठी हमदर्दियां
Surinder blackpen
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
नीलामी हो गई अब इश्क़ के बाज़ार में मेरी ।
Phool gufran
यक्षिणी / MUSAFIR BAITHA
यक्षिणी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*मैं पक्षी होती
*मैं पक्षी होती
Madhu Shah
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
ओसमणी साहू 'ओश'
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU SHARMA
* कुछ पता चलता नहीं *
* कुछ पता चलता नहीं *
surenderpal vaidya
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
कवि दीपक बवेजा
Lines of day
Lines of day
Sampada
यही समय है!
यही समय है!
Saransh Singh 'Priyam'
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
Dr.Rashmi Mishra
सुंदर लाल इंटर कॉलेज में प्रथम काव्य गोष्ठी - कार्यशाला*
सुंदर लाल इंटर कॉलेज में प्रथम काव्य गोष्ठी - कार्यशाला*
Ravi Prakash
मानसिक तनाव
मानसिक तनाव
Sunil Maheshwari
Loading...