Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Mar 2017 · 1 min read

माँ मेरा मन

????
माँ मेरा मन,
तेरी गोदी ढूंढता है।
माँ मेरा तन,
तेरी वही स्पर्श चाहता है।
माँ मेरा अन्तस,
हर पल तुझे पुकारता है।
तू आ जाये काश अभी,
हर पल ये सोचता है।
????—लक्ष्मी सिंह ??

Language: Hindi
758 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
हथिनी की व्यथा
हथिनी की व्यथा
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
मंत्र की ताकत
मंत्र की ताकत
Rakesh Bahanwal
"दरवाजा"
Dr. Kishan tandon kranti
बह्र -212 212 212 212 अरकान-फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन काफ़िया - आना रदीफ़ - पड़ा
बह्र -212 212 212 212 अरकान-फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन फ़ाईलुन काफ़िया - आना रदीफ़ - पड़ा
Neelam Sharma
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
Anil Mishra Prahari
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
हे राम तुम्हीं कण कण में हो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हादसे बोल कर नहीं आते
हादसे बोल कर नहीं आते
Dr fauzia Naseem shad
यह तुम्हारी नफरत ही दुश्मन है तुम्हारी
यह तुम्हारी नफरत ही दुश्मन है तुम्हारी
gurudeenverma198
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
डॉक्टर रागिनी
आस्था स्वयं के विनाश का कारण होती है
आस्था स्वयं के विनाश का कारण होती है
प्रेमदास वसु सुरेखा
अगर महोब्बत बेपनाह हो किसी से
अगर महोब्बत बेपनाह हो किसी से
शेखर सिंह
विधवा
विधवा
Buddha Prakash
"मैं मजाक हूँ "
भरत कुमार सोलंकी
Loving someone you don’t see everyday is not a bad thing. It
Loving someone you don’t see everyday is not a bad thing. It
पूर्वार्थ
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुझे
मुझे "कुंठित" होने से
*Author प्रणय प्रभात*
माँ
माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
"अदृश्य शक्ति"
Ekta chitrangini
हाजीपुर
हाजीपुर
Hajipur
शिष्टाचार एक जीवन का दर्पण । लेखक राठौड़ श्रावण सोनापुर उटनुर आदिलाबाद
शिष्टाचार एक जीवन का दर्पण । लेखक राठौड़ श्रावण सोनापुर उटनुर आदिलाबाद
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
उम्मीद -ए- दिल
उम्मीद -ए- दिल
Shyam Sundar Subramanian
सरसी छंद और विधाएं
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2283.🌷खून बोलता है 🌷
2283.🌷खून बोलता है 🌷
Dr.Khedu Bharti
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कसास दो उस दर्द का......
कसास दो उस दर्द का......
shabina. Naaz
फितरत सियासत की
फितरत सियासत की
लक्ष्मी सिंह
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
Phool gufran
!! परदे हया के !!
!! परदे हया के !!
Chunnu Lal Gupta
दशरथ माँझी संग हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
दशरथ माँझी संग हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Loading...