Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

माँ दहलीज के पार🙏

माँ दहलीज़ के पार🙏
☘️🌷🌷🍀☘️
निज संतानो को पाला पोसा
बड़ा हो जग सिंहासन पाया
अफ़सर हो भारत माता का
सेवा श्रम इक अवसर पाया

शानोसौकत अफ़सरशाही में
भूल गया निजअपना पराया
मोह घमंड़ के झंझावातों में
निज छोड़ दूजे को अपनाया

तन मन दुर्बल काया कल्प
भावों की झोंकों में दहलीज
पार छोड़ मुझे निज हालों पे
औरों हाल पूछने चला गया

अनुनय विनय किया आंगन ने
आने को अकड़ते आगे बढ़ गया
विकसित फूलों की इस डाली ने
निज भविष्य मुरझाने की स्वयं

जिम्मेदारी साथ ले चला गया
कब तक कोई अपमान सहेगा
शूल बेदना खुद मुरझा जाएगा
पश्चतापे की अंध सागर डूब

किनारे सहारे पाने बैचैनी में
दहलीज सहारा लेना होगा
समय देता है भुलावा सबको
स्वर्ग से सुंदर निज जन्म घर

श्रृंगार सजा लिए चार कंधों का
सहारा परिक्षेत्र भ्रमण खातिर
मुरझा फूल दहलीज़ खिलाकर
जग छोड़ने की विदाई लेना होगा

जन्मांतर कर्ज़ चुकाना ही होगा
सत्य यही वक़्त सही भवसागर
पार उतरने गीता ज्ञान लेना होगा
माँ दहलीज पर आना ही होगा ॥

☘️🍀🌷🙏🙏🌹☘️🍀🍀

तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण

Language: Hindi
1 Like · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
*प्यार का रिश्ता*
*प्यार का रिश्ता*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"फितरत"
Ekta chitrangini
वस्तु वस्तु का  विनिमय  होता  बातें उसी जमाने की।
वस्तु वस्तु का विनिमय होता बातें उसी जमाने की।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
सच तो यही हैं।
सच तो यही हैं।
Neeraj Agarwal
प्रीत
प्रीत
Mahesh Tiwari 'Ayan'
"परमात्मा"
Dr. Kishan tandon kranti
कविता की महत्ता।
कविता की महत्ता।
Rj Anand Prajapati
😊अनुरोध😊
😊अनुरोध😊
*प्रणय प्रभात*
बरसात...
बरसात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
ऐसा एक भारत बनाएं
ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
*आए जब से राम हैं, चारों ओर वसंत (कुंडलिया)*
*आए जब से राम हैं, चारों ओर वसंत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जो सुनना चाहता है
जो सुनना चाहता है
Yogendra Chaturwedi
सफल हुए
सफल हुए
Koमल कुmari
बिधवा के पियार!
बिधवा के पियार!
Acharya Rama Nand Mandal
नया विज्ञापन
नया विज्ञापन
Otteri Selvakumar
"धन्य प्रीत की रीत.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चर्चित हो जाऊँ
चर्चित हो जाऊँ
संजय कुमार संजू
यकीं के बाम पे ...
यकीं के बाम पे ...
sushil sarna
यूॅं बचा कर रख लिया है,
यूॅं बचा कर रख लिया है,
Rashmi Sanjay
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
Harminder Kaur
संवेदना(फूल)
संवेदना(फूल)
Dr. Vaishali Verma
गिरमिटिया मजदूर
गिरमिटिया मजदूर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मैं अगर आग में चूल्हे की यूँ जल सकती हूँ
मैं अगर आग में चूल्हे की यूँ जल सकती हूँ
Shweta Soni
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
Sanjay ' शून्य'
तिरंगा बोल रहा आसमान
तिरंगा बोल रहा आसमान
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
sushil yadav
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...