Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2022 · 1 min read

माँ गंगा

आओं गंगा को एक बार,
फिर से पावन कर देते है।

माँ इन्हें कहा हैं तो,
माँ का रूप फिर देते है।

चलो एक बार फिर अंर्तमन से,
उनको सम्मान करते हैं ।

चलो माँ का दामन पकड़ कर,
अपने मन को फिर धोते है।

माँ के आँचल को मैला करने का
जो हमनें पाप किया है ।

आज फिर उन आँचल को साफ कर,
अपना पाप हम धोते है।

गाँव-गाँव, शहर-शहर,
जो हमें जल पहुँचाती हैं ।

बिना किसी स्वार्थ के,
जो रोज हमारे काम आती है।

आज फिर अंर्तमन से दिल,
से उनका आभार मानते है।

आज फिर उनके जल को,
हम निर्मल और पावन से बनाते है।

उनके चरणों में फिर से,
अपना तन-मन अर्पण करते है।

स्वर्ग से उतरी थी जैसे धरा पर
वैसा ही रूप फिर देते हैं।

आज उन्ही रूप को फिर से,
धरती पर विराजमान करते हैं।

आज माँ के जल को शुद्ध कर,
अंर्तमन से ग्रहण करते हैं।

अपने पाप से मुक्ति पाने के लिए,
माँ के जल को ग्रहण करते हैं।

आओं फिर से हम सब दिल से
माँ का आभार व्यक्त करते है।

आओ फिर से माँ को हम सब
मिलकर पावन कर देते है।

~अनामिका

Language: Hindi
5 Likes · 427 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कौन कहता है कि नदी सागर में
कौन कहता है कि नदी सागर में
Anil Mishra Prahari
"Every person in the world is a thief, the only difference i
ASHISH KUMAR SINGH
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
Kshma Urmila
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
DrLakshman Jha Parimal
■ मुस्कान में भगवान...
■ मुस्कान में भगवान...
*प्रणय प्रभात*
महादेव का भक्त हूँ
महादेव का भक्त हूँ
लक्ष्मी सिंह
24/238. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/238. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पेंशन
पेंशन
Sanjay ' शून्य'
*राम अर्थ है भारत का अब, भारत मतलब राम है (गीत)*
*राम अर्थ है भारत का अब, भारत मतलब राम है (गीत)*
Ravi Prakash
जबसे उनको रकीब माना है।
जबसे उनको रकीब माना है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
गोंडीयन विवाह रिवाज : लमझाना
गोंडीयन विवाह रिवाज : लमझाना
GOVIND UIKEY
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
आजादी की चाहत
आजादी की चाहत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अपनी मर्ज़ी
अपनी मर्ज़ी
Dr fauzia Naseem shad
'आरक्षितयुग'
'आरक्षितयुग'
पंकज कुमार कर्ण
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
Harsh Nagar
किया है तुम्हें कितना याद ?
किया है तुम्हें कितना याद ?
The_dk_poetry
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
Madhuyanka Raj
..........?
..........?
शेखर सिंह
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Awadhesh Singh
****माता रानी आई ****
****माता रानी आई ****
Kavita Chouhan
फ़ना
फ़ना
Atul "Krishn"
रचना प्रेमी, रचनाकार
रचना प्रेमी, रचनाकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
माँ का महत्व
माँ का महत्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"बेहतर है चुप रहें"
Dr. Kishan tandon kranti
Don't bask in your success
Don't bask in your success
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
Manisha Manjari
साइंस ऑफ लव
साइंस ऑफ लव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इम्तहान दे कर थक गया , मैं इस जमाने को ,
इम्तहान दे कर थक गया , मैं इस जमाने को ,
Neeraj Mishra " नीर "
Loading...