Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
Apr 28, 2022 · 1 min read

माँ गंगा

आओं गंगा को एक बार,
फिर से पावन कर देते है।

माँ इन्हें कहा हैं तो,
माँ का रूप फिर देते है।

चलो एक बार फिर अंर्तमन से,
उनको सम्मान करते हैं ।

चलो माँ का दामन पकड़ कर,
अपने मन को फिर धोते है।

माँ के आँचल को मैला करने का
जो हमनें पाप किया है ।

आज फिर उन आँचल को साफ कर,
अपना पाप हम धोते है।

गाँव-गाँव, शहर-शहर,
जो हमें जल पहुँचाती हैं ।

बिना किसी स्वार्थ के,
जो रोज हमारे काम आती है।

आज फिर अंर्तमन से दिल,
से उनका आभार मानते है।

आज फिर उनके जल को,
हम निर्मल और पावन से बनाते है।

उनके चरणों में फिर से,
अपना तन-मन अर्पण करते है।

स्वर्ग से उतरी थी जैसे धरा पर
वैसा ही रूप फिर देते हैं।

आज उन्ही रूप को फिर से,
धरती पर विराजमान करते हैं।

आज माँ के जल को शुद्ध कर,
अंर्तमन से ग्रहण करते हैं।

अपने पाप से मुक्ति पाने के लिए,
माँ के जल को ग्रहण करते हैं।

आओं फिर से हम सब दिल से
माँ का आभार व्यक्त करते है।

आओ फिर से माँ को हम सब
मिलकर पावन कर देते है।

~अनामिका

5 Likes · 110 Views
You may also like:
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
श्री अग्रसेन भागवत ः पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
खामोशियाँ
अंजनीत निज्जर
आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं
Ram Krishan Rastogi
बचपन में थे सवा शेर
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️निज़ाम✍️
"अशांत" शेखर
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
जीवन की सौगात "पापा"
Dr. Alpa H. Amin
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अपराधी कौन
Manu Vashistha
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
हर ख़्वाब झूठा है।
Taj Mohammad
पिता
Dr.Priya Soni Khare
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
मिठास- ए- ज़िन्दगी
AMRESH KUMAR VERMA
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌺🌺🌺शायद तुम ही मेरी मंजिल हो🌺🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अम्बेडकर जी के सपनों का भारत
Shankar J aanjna
हसद
Alok Saxena
**किताब**
Dr. Alpa H. Amin
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
Loading...