Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2016 · 2 min read

माँ ….कैसे जियूँ तेरे बिन

हर माँ की एक ही चाहत ,

जीवन में बेटा आगे बढ़े बहुत ,

लगा देती तन मन उसके लिए ,

करती दुआएं लाख उसके लिए।

पर एक दिन मेरा मन भर आया ,

जब एक बेटे को माँ से ये कहता पाया।

बोला…माँ कुछ तेरे कुछ अपने सपने

पूरा करने मैं आगे… तो बढ़ जाऊंगा।

पर लौट कर शायद वापस ना आ पाऊँगा।

एक बार घुस इस दौड़ में

वापसी का रास्ता ना ढूंढ पाऊंगा।

पा तो जाऊंगा बहुत कुछ,

पर छूट भी जायेगा बहुत कुछ,

वो वक़्तकैसे वापस पाऊंगा।

वापस आया भी गर बरसों बाद,

कैसे पाऊंगा आज वाली आप।

नहीं माँ .. वक़्त आगे निकल जायेगा ,

पछतावे में बस हाथ मलता रह जाऊंगा।

हो सकता है माँ ये भी ,

बदल जाऊं वक़्त के साथ मैं भी।

पैसे की चकाचौंध

डगमगा दे मेरे पाँव भी।

तब तो तेरी आँखों का

नूरही मिट जायेगा।

बूढ़ी होती इन आँखों में,

बस इंतज़ार ही रह जायेगा।

काँप उठती है माँ

मेरी रूह ये सोचकर,

मेरा तो आगे बढ़ना ही व्यर्थ जायेगा।

नहीं माँ…बढूंगा तो बहुत

आगे इस दुनिया में

पर उड़कर आसमां में भी

रखूँगा पाँव जमीं में ही।

माँ मैं तुमसे दूर नही रह पाऊंगा।

सुनती रही माँ ये सब

खामोश थे उसके लब

आँखें आंसुओं से लबालब।

आँखों में ले नमी ,

मैं ये सोचने लगी।

गर सोच हो जाये सभी की ऐसी ,

कोई बूढ़ी अंखिया रहे न प्यासी।

भर जाएँ दामन में सारी खुशियां

ना आये उनमे कभी उदासी।

चहक उठेगा घर घर का अंगना ,

वृद्धाआश्रम का तो अस्तित्व ही मिट जायेगा।

पल कर बुजुर्गों की छाँव में

हर बच्चा अच्छा संस्कार पायेगा।

वीभत्स होते से जा रहे समाज में ,

ऐसे ही अच्छा सुधार आएगा।

डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
Tag: कविता
538 Views
You may also like:
आया रक्षा बंधन
जगदीश लववंशी
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
*माता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जोकर vs कठपुतली ~02
bhandari lokesh
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
छुपकर
Dr.sima
गुरु
Seema 'Tu hai na'
आस्तीक भाग -छः
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जन्मदिवस का महत्व...
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
यादों की परछाइयां
Shekhar Chandra Mitra
दिखती है व्यवहार में ,ये बात बहुत स्पष्ट
Dr Archana Gupta
शहादत
shabina. Naaz
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
दिया और हवा
Anamika Singh
उसको भेजा हुआ खत
कवि दीपक बवेजा
✍️ देखते रह गये..!✍️
'अशांत' शेखर
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
ए'तिराफ़-ए-'अहद-ए-वफ़ा
Shyam Sundar Subramanian
योग
DrKavi Nirmal
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
कविता
Sushila Joshi
चार संस्कारी दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दुश्मन जमाना बेटी का
लक्ष्मी सिंह
सच्चा शिक्षक
gurudeenverma198
A solution:-happiness
Aditya Prakash
चौपई छंद ( जयकरी / जयकारी छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
इश्क खूब कर गए हो।
Taj Mohammad
पत्ते
Saraswati Bajpai
हम जनमदिन को कुछ यूँ मनाने लगे
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
छोड़ दिए संस्कार पिता के, कुर्सी के पीछे दौड़ रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...