Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

माँ की यादें

माँ की यादें…
~~°~~°~~°
क्यूँ,रुख़सत हुई, माँ “तेरी यादें ,
यादों में फिर से समाओ ना।
दिल करता रो-रोकर फरियादें ,
माँ,पास फिर से तो आओ ना…

बीता पल उन झिलमिल यादों का ,
सुकोमल,सरल,सहज बचपन था।
साज छेड़ो सुमधुर तरानों का ,
कोई लोरी फिर वही सुनाओ ना…

हठीपन मेरा, तेरा वो झुठा दिलासा ,
बगिये के पेड़ों का,अजूबा सा किस्सा।
बड़ी मुद्दत हुई,कर्ण सुनने को है प्यासा ,
वही किस्से, फिर से तुम सुनाओ ना…

रूमानियत का सफर बहुत प्यारा ,
रुहानी था रिश्ता,माँ आंचल तेरा ।
निस्तब्ध मन, हुआ अब अँधियारा ,
दिल को और न अब,तड़पाओ ना…

गुमसुम है जिंदगी,खामोशी अधरों पे ,
ख्वाहिशें देखो, कैसे थम सी गई है।
रख दूँ मैं अपना सर,माँ तेरी गोदी पे ,
कभी सपनों में,फिर से तुम आ जाओ ना…

कैसी हो माँ,अब कहाँ तुम हो ,
ग़म में तुम चुपके से रो लेती ।
खुशी में भी अपना आँचल भिगोती ,
कुछ बातें अपनी भी,माँ तुम बताओ ना…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )

190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
हार मानूंगा नही।
हार मानूंगा नही।
Rj Anand Prajapati
करीब हो तुम किसी के भी,
करीब हो तुम किसी के भी,
manjula chauhan
जीवन में प्राकृतिक ही  जिंदगी हैं।
जीवन में प्राकृतिक ही जिंदगी हैं।
Neeraj Agarwal
भारत है वो फूल (कविता)
भारत है वो फूल (कविता)
Baal Kavi Aditya Kumar
*सीधे-साधे लोगों का अब, कठिन गुजारा लगता है (हिंदी गजल)*
*सीधे-साधे लोगों का अब, कठिन गुजारा लगता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
आज उम्मीद है के कल अच्छा होगा
आज उम्मीद है के कल अच्छा होगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वही पर्याप्त है
वही पर्याप्त है
Satish Srijan
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
Sanjay ' शून्य'
विचार सरिता
विचार सरिता
Shyam Sundar Subramanian
****शिरोमणि****
****शिरोमणि****
प्रेमदास वसु सुरेखा
देश मे सबसे बड़ा संरक्षण
देश मे सबसे बड़ा संरक्षण
*Author प्रणय प्रभात*
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
इस जग में हैं हम सब साथी
इस जग में हैं हम सब साथी
Suryakant Dwivedi
सुनी चेतना की नहीं,
सुनी चेतना की नहीं,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
"गाय"
Dr. Kishan tandon kranti
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
Bundeli Doha pratiyogita-149th -kujane
Bundeli Doha pratiyogita-149th -kujane
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
Shashi kala vyas
*अज्ञानी की कलम  *शूल_पर_गीत*
*अज्ञानी की कलम *शूल_पर_गीत*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
Rekha Drolia
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
Vishal babu (vishu)
*तू भी जनता मैं भी जनता*
*तू भी जनता मैं भी जनता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चाहे अकेला हूँ , लेकिन नहीं कोई मुझको गम
चाहे अकेला हूँ , लेकिन नहीं कोई मुझको गम
gurudeenverma198
जब से देखा है तुमको
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
Basant Bhagawan Roy
मजदूर
मजदूर
umesh mehra
" SHOW MUST GO ON "
DrLakshman Jha Parimal
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
तोड़ सको तो तोड़ दो ,
sushil sarna
चुप्पी
चुप्पी
डी. के. निवातिया
" सौग़ात " - गीत
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...