Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Apr 2019 · 1 min read

माँ की यादें

जिसकी माँ बचपन में ही अपने बेटे को अकेला छोड़ देती है उस बेटे के मुँह से निकली ये बाते, जिसको मैं कुमार अनु ओझा, अपनी कलमों से सजाने के प्रयास किया हु ।

माँ तूने मुझे जन्म दिया
रोते बिलखते तड़पता रहा।
बचपन में छोड़ तू चली गयी
मैं प्यार को तेरा तरसता रहा।।

तेरी याद मुझे सताती रही
मैं इधर उधर भटकता रहा।
नहीं था कोई सवांरने वाला
मैं प्यार को तेरा तरसता रहा।।

बहुतो ने मुझे खूब सताया
रोज डूबकर मै उगता रहा।
मुश्किलें तो झेलना मेरी आदत सी बन गई
पर प्यार को तेरा तरसता रहा।।

थोड़ा काबिल हुआ हूँ आज क्योंकि
तेरा आशीष मुझपे बरसता रहा।
टीका रहा मैं अपनी बुनियाद पर
असफलता भी मुझसे हारता रहा।।

तुम शक्ति देती नित हम सबको
अमृत का गागर पनपता रहा।
जीवन के इस सुने उपवन में
जान बूझकर मैं हंसता रहा।।

?कुमार अनु ओझा

Language: Hindi
8 Likes · 4 Comments · 1304 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कमाई / MUSAFIR BAITHA
कमाई / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ज़िंदगी तो ज़िंदगी
ज़िंदगी तो ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
*बताए मेरी गलती जो, उसे ईनाम देता हूँ (हिंदी गजल)*
*बताए मेरी गलती जो, उसे ईनाम देता हूँ (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"" *रिश्ते* ""
सुनीलानंद महंत
पर्यावरण
पर्यावरण
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कोई मिले जो  गले लगा ले
कोई मिले जो गले लगा ले
गुमनाम 'बाबा'
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
पूर्वार्थ
"अदा"
Dr. Kishan tandon kranti
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
फेसबुक ग्रूपों से कुछ मन उचट गया है परिमल
DrLakshman Jha Parimal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लंका दहन
लंका दहन
Paras Nath Jha
मेरा देश महान
मेरा देश महान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
राखी सांवन्त
राखी सांवन्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
!..................!
!..................!
शेखर सिंह
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इतना मत इठलाया कर इस जवानी पर
इतना मत इठलाया कर इस जवानी पर
Keshav kishor Kumar
महबूबा
महबूबा
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
सत्य मिलता कहाँ है?
सत्य मिलता कहाँ है?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
रंगो ने दिलाई पहचान
रंगो ने दिलाई पहचान
Nasib Sabharwal
* निशाने आपके *
* निशाने आपके *
surenderpal vaidya
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
3113.*पूर्णिका*
3113.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं भारत का जवान हूं...
मैं भारत का जवान हूं...
AMRESH KUMAR VERMA
11) “कोरोना एक सबक़”
11) “कोरोना एक सबक़”
Sapna Arora
आई आंधी ले गई, सबके यहां मचान।
आई आंधी ले गई, सबके यहां मचान।
Suryakant Dwivedi
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
shabina. Naaz
आधुनिक भारत के कारीगर
आधुनिक भारत के कारीगर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
A daughter's reply
A daughter's reply
Bidyadhar Mantry
शांतिवार्ता
शांतिवार्ता
Prakash Chandra
Loading...