Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2023 · 2 min read

माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा

पिता से टूट चुका था तभी
सदा के लिये मेरा दुनियावी नाता
जबकि अपने छहसाला पुत्र की उम्र में
मैं रहा होऊंगा जब

अब तो पिता के चेहरे का
एक कोना तक याद नहीं मुझको
नहीं स्मरण आता मुझे
पिता का कहा बोला एक भी हर्फ
बरता हुआ कोई बात व्यवहार
जो मेरे प्रति उनके भाव स्वभाव
डांचपुचकार हंसीदिल्लगी रोषप्रीति के
इजहार का एक कतरा सबूत भी जुटा पाता
और मैं अपनी नन्हीं जान संतान की
कम से कम उस हठ प्रश्न की आमद से
अपना पिंड छुड़ाने की खातिर उन्हें परोस पाता
कि तुम्हारे दादा ऐसे थे वैसे थे
कि कैसे थे

पिता के बारे में
मेरी यादों के रिक्थ का
सर्वथा रिक्त रह जाने का
खूब पता है
मेरी उम्र जर्जर मां को
जिसके खुद के कितने ही मान अरमान
दुनियादारी के मोर्चे पर
विफल रह गए पिता के
असमय ही हतगति होने से
रह गए थे
कोरे अधपूरे अनपूरे
और अनकहे तक

कहती है मां
तुम्हारे पिता तो
नादान की हद तक थे भोले
उन्हें तो अपने बच्चों तक पर
प्यार लुटाना नहीं आता था
मेरे मन में झांक पाने की
बात तो कुछ और है

मेरी मूंछों से
अपनी मां की स्नेहिल मौजूदगी में
खेलते चुहल शरारत करते
अपने पोते को देखकर

मेरे पिता के चेहरे को
मुझमें ढूंढ़ती शायद
कहीं और खो जाती है बरबस मां

बाप बन अब मैं समझ सकता हूं खूब
कि मुझ बाप बेटे का
राग रंग हंसी दिल्लगी निरखना
मां को बहुत प्यारा अपना ही रूपक सा
क्यूंकर लगता है ।
———-

Language: Hindi
451 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
मुझे गर्व है अलीगढ़ पर #रमेशराज
मुझे गर्व है अलीगढ़ पर #रमेशराज
कवि रमेशराज
मेरी दुनियाँ.....
मेरी दुनियाँ.....
Naushaba Suriya
आजमाइश
आजमाइश
Suraj Mehra
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
सामाजिक क्रांति
सामाजिक क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
*मेरे दिल में आ जाना*
*मेरे दिल में आ जाना*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*अपने बाल खींच कर रोती (बाल कविता)*
*अपने बाल खींच कर रोती (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हाइकु: गौ बचाओं.!
हाइकु: गौ बचाओं.!
Prabhudayal Raniwal
अगर हो हिंदी का देश में
अगर हो हिंदी का देश में
Dr Manju Saini
सरस्वती वंदना-1
सरस्वती वंदना-1
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अष्टम् तिथि को प्रगटे, अष्टम् हरि अवतार।
अष्टम् तिथि को प्रगटे, अष्टम् हरि अवतार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
पानी जैसा बनो रे मानव
पानी जैसा बनो रे मानव
Neelam Sharma
विनम्रता, साधुता दयालुता  सभ्यता एवं गंभीरता जवानी ढलने पर आ
विनम्रता, साधुता दयालुता सभ्यता एवं गंभीरता जवानी ढलने पर आ
Rj Anand Prajapati
साकार नहीं होता है
साकार नहीं होता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
इस घर से .....
इस घर से .....
sushil sarna
"जरा देख"
Dr. Kishan tandon kranti
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
SHAMA PARVEEN
2993.*पूर्णिका*
2993.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
♥️♥️दौर ए उल्फत ♥️♥️
♥️♥️दौर ए उल्फत ♥️♥️
umesh mehra
ईश्वर का घर
ईश्वर का घर
Dr MusafiR BaithA
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"कष्ट"
नेताम आर सी
दो दोस्तों की कहानि
दो दोस्तों की कहानि
Sidhartha Mishra
क्रोध
क्रोध
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
Devesh Bharadwaj
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
Manisha Manjari
ममता का सागर
ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Santosh Khanna (world record holder)
जिंदगी
जिंदगी
विजय कुमार अग्रवाल
!! सोपान !!
!! सोपान !!
Chunnu Lal Gupta
Loading...