Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Sep 2022 · 3 min read

माँ अन्नपूर्णा

“माँ अन्नपूर्णा”
शिवजी रोज सुबह 9 बजे गंगा स्नान करने के लिए जाते ,वहाँ अपनेआराध्य देव श्री राम जी की स्तुति नाम जाप करते थे।उधर पार्वती जी भोजन तैयार कर पकाती ,शिवजी के आने का इंतजार करती रहती थी।
शिवजी श्री राम नाम जप पूरा हो जाने के बाद आते ,माता पार्वती जी शिवजी को भोजन परोसती थी।
शिवजी प्रतिदिन श्री राम नाम जपकर आते माता पार्वती जी तत्काल भोजन परोसती थी।एक दिन अचानक शिवजी जल्दी आ गए तो, इस पर माता पार्वती जी ने पूछा ; प्रभु स्वामी जी आज आप इतनी जल्दी कैसे आ गए ….आज आपने अपने आराध्य देव प्रभु श्री राम जी के नामों का जप नहीं किया ….!
शिवजी कहने लगे जल्दी से भोजन परोस दीजिये ….मैने श्री राम नाम जप कर लिया है …!
इस पर माता पार्वती जी कहने लगी ..प्रभु जी मुझे भी श्री राम रक्षा स्त्रोत्र नाम जप सुनाइए …! !
राम रामेति रामेति रमे रामे मनोरमे,
सहस्त्र नाम तातुल्यं रामनाम वरानने।
प्रभु श्री राम नाम जप से भगवान व भक्त दोनों का आशीर्वाद प्राप्त होता है दुनिया में जहाँ कहीं भी श्री राम का नाम लिया जाता है वहाँ पर आज भी हनुमान जी किसी न किसी रूप में प्रगट होकर आ जाते हैं।
शिवजी कहते हैं ;
मेरे मन को रमण करने वाली पार्वती :अथवा मन को रमण कराने वाले राम में मैं राम राम ऐसा उच्चारण करके रमण करता हूँ ;वह राम नाम और सहस्त्र नाम समान ही है।
श्री राम नाम के मुख में विराजमान होने से सुंदर हे पार्वती …
राम नाम इसी द्वयक्षर से , जागृत ,स्वप्न ,सुषुप्ति ,इन तीनों अवस्थाओं में जप करो। हे पार्वती मैं भी इन्हीं मनोरम राम में रमता हूँ। यह राम नाम विष्णु सहस्त्र नाम के तुल्य है।
अहो ! यह कितना रमणीय अर्थ है पर मेरे राघव ने मुझे इसके लिए कितना तड़फाया !कोई बात नहीं! देर हुई पर अंधेर नहीं ! लगता है कि मेरी आगामी छठे अनुष्ठान की पूर्व भूमिका में ही प्रभु श्री सीताराम जी ने मुझे इस अर्थ के योग्य समझा है।
मंत्र जप पूरा होते ही माता पार्वती ने देखते ही देखते छप्पन भोग तैयार कर दिया था।
शिवजी ये सब देख माता पार्वती जी का नाम माँ अन्नपूर्णा रख दिया था।
समस्या निवारण के लिए स्वयं शिवजी ने निरीक्षण किया फिर माता पार्वती जी ने अन्नपूर्णा का रूप धारण कर पृथ्वी पर प्रगट हुई उसके बाद शिवजी भिक्षुक का रूप रखकर माँ अन्नपूर्णा से चावल भिक्षा में मांगे और उन्हें भूखे लोगों के बीच बाँट दिया।उसके बाद पृथ्वी पर अन्नजल का संकट खत्म हो गया।
अन्नपूर्णा काशी ( वाराणसी) शहर की देवी है जहाँ उन्हें वाराणसी के राजा विश्वेश्वर (शिवजी) के साथ वाराणसी की रानी माना जाता है।
माँ अन्नपूर्णा को पूजा घर / मंदिर में ,रसोई में उत्तर पूर्व कोने में रखा जाता है। मूर्ति का मुख पश्चिम दिशा की ओर और पूजा करने वाले का मुँह पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए।
घी का दीपक जलाएं भोग लगाएं।
स्तुति :-
अन्नपूर्णा सदा पूर्ण शंकर प्राण वल्लभे,
ज्ञान वैराग्य सिद्धयर्थ भिक्षा देहिं च पार्वती
माता च पार्वती देवी पिता देवो महेश्वरः।
बान्धवाः शिवा भक्ताश्च स्वदेशो भुवनत्र्यम।।
माता पार्वती जी ने कहा ; –
विश्वनाथ मम नाथ पुरारी ,त्रिभुवन महिमा विदित तुम्हारी।
चर अस अचर नाग नर देवा ,सकल करहिं पद पंकज सेवा।।
अर्थात ; – हे संसार के स्वामी ! मेरे नाथ हे त्रिपुरारी का वध करने वाले ! आपकी महिमा तीनों लोक में विख्यात है। चर ,अचर ,नाग,मनुष्य ,और देवता सभी आपके चरण कमलों की सेवा करते हैं।
श्री शिवाय नमस्तुभ्यं
जय श्री राम जय जय हनुमान जी 🚩
🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
शशिकला व्यास ✍

Language: Hindi
2 Likes · 161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"प्रेम कभी नफरत का समर्थक नहीं रहा है ll
पूर्वार्थ
ए'लान - ए - जंग
ए'लान - ए - जंग
Shyam Sundar Subramanian
साजिशें ही साजिशें...
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
जीवन के बसंत
जीवन के बसंत
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कैसे भूल जाएं...
कैसे भूल जाएं...
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मन
मन
Sûrëkhâ
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
प्यारा हिन्दुस्तान
प्यारा हिन्दुस्तान
Dinesh Kumar Gangwar
मां तुम्हें आता है ,
मां तुम्हें आता है ,
Manju sagar
तुझको को खो कर मैंने खुद को पा लिया है।
तुझको को खो कर मैंने खुद को पा लिया है।
Vishvendra arya
हलमुखी छंद
हलमुखी छंद
Neelam Sharma
"अमरूद की महिमा..."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
वो इश्क किस काम का
वो इश्क किस काम का
Ram Krishan Rastogi
5. इंद्रधनुष
5. इंद्रधनुष
Rajeev Dutta
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
👍👍👍
👍👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
पसरी यों तनहाई है
पसरी यों तनहाई है
Dr. Sunita Singh
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
প্রফুল্ল হৃদয় এবং হাস্যোজ্জ্বল চেহারা
Sakhawat Jisan
जब होती हैं स्वार्थ की,
जब होती हैं स्वार्थ की,
sushil sarna
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
Maroof aalam
आज की बेटियां
आज की बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
*उर्मिला (कुंडलिया)*
*उर्मिला (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Natasha is my Name!
Natasha is my Name!
Natasha Stephen
।। मतदान करो ।।
।। मतदान करो ।।
Shivkumar barman
"चांद पे तिरंगा"
राकेश चौरसिया
"कैफियत"
Dr. Kishan tandon kranti
3197.*पूर्णिका*
3197.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कठपुतली की क्या औकात
कठपुतली की क्या औकात
Satish Srijan
" क़ैद में ज़िन्दगी "
Chunnu Lal Gupta
Loading...