Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Sep 2022 · 3 min read

माँ अन्नपूर्णा

*”माँ अन्नपूर्णा”*
शिवजी रोज सुबह 9 बजे गंगा स्नान करने के लिए जाते ,वहाँ अपनेआराध्य देव श्री राम जी की स्तुति नाम जाप करते थे।उधर पार्वती जी भोजन तैयार कर पकाती ,शिवजी के आने का इंतजार करती रहती थी।
शिवजी श्री राम नाम जप पूरा हो जाने के बाद आते ,माता पार्वती जी शिवजी को भोजन परोसती थी।
शिवजी प्रतिदिन श्री राम नाम जपकर आते माता पार्वती जी तत्काल भोजन परोसती थी।एक दिन अचानक शिवजी जल्दी आ गए तो, इस पर माता पार्वती जी ने पूछा ; प्रभु स्वामी जी आज आप इतनी जल्दी कैसे आ गए ….आज आपने अपने आराध्य देव प्रभु श्री राम जी के नामों का जप नहीं किया ….!
शिवजी कहने लगे जल्दी से भोजन परोस दीजिये ….मैने श्री राम नाम जप कर लिया है …!
इस पर माता पार्वती जी कहने लगी ..प्रभु जी मुझे भी श्री राम रक्षा स्त्रोत्र नाम जप सुनाइए …! !
*राम रामेति रामेति रमे रामे मनोरमे,*
*सहस्त्र नाम तातुल्यं रामनाम वरानने।*
प्रभु श्री राम नाम जप से भगवान व भक्त दोनों का आशीर्वाद प्राप्त होता है दुनिया में जहाँ कहीं भी श्री राम का नाम लिया जाता है वहाँ पर आज भी हनुमान जी किसी न किसी रूप में प्रगट होकर आ जाते हैं।
शिवजी कहते हैं ;
*मेरे मन को रमण करने वाली पार्वती :अथवा मन को रमण कराने वाले राम में मैं राम राम ऐसा उच्चारण करके रमण करता हूँ ;वह राम नाम और सहस्त्र नाम समान ही है।*
श्री राम नाम के मुख में विराजमान होने से सुंदर हे पार्वती …
राम नाम इसी द्वयक्षर से , जागृत ,स्वप्न ,सुषुप्ति ,इन तीनों अवस्थाओं में जप करो। हे पार्वती मैं भी इन्हीं मनोरम राम में रमता हूँ। यह राम नाम विष्णु सहस्त्र नाम के तुल्य है।
अहो ! यह कितना रमणीय अर्थ है पर मेरे राघव ने मुझे इसके लिए कितना तड़फाया !कोई बात नहीं! देर हुई पर अंधेर नहीं ! लगता है कि मेरी आगामी छठे अनुष्ठान की पूर्व भूमिका में ही प्रभु श्री सीताराम जी ने मुझे इस अर्थ के योग्य समझा है।
मंत्र जप पूरा होते ही माता पार्वती ने देखते ही देखते छप्पन भोग तैयार कर दिया था।
शिवजी ये सब देख माता पार्वती जी का नाम *माँ अन्नपूर्णा* रख दिया था।
समस्या निवारण के लिए स्वयं शिवजी ने निरीक्षण किया फिर माता पार्वती जी ने अन्नपूर्णा का रूप धारण कर पृथ्वी पर प्रगट हुई उसके बाद शिवजी भिक्षुक का रूप रखकर *माँ अन्नपूर्णा* से चावल भिक्षा में मांगे और उन्हें भूखे लोगों के बीच बाँट दिया।उसके बाद पृथ्वी पर अन्नजल का संकट खत्म हो गया।
अन्नपूर्णा काशी ( वाराणसी) शहर की देवी है जहाँ उन्हें वाराणसी के राजा विश्वेश्वर (शिवजी) के साथ वाराणसी की रानी माना जाता है।
*माँ अन्नपूर्णा* को पूजा घर / मंदिर में ,रसोई में उत्तर पूर्व कोने में रखा जाता है। मूर्ति का मुख पश्चिम दिशा की ओर और पूजा करने वाले का मुँह पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए।
घी का दीपक जलाएं भोग लगाएं।
स्तुति :-
*अन्नपूर्णा सदा पूर्ण शंकर प्राण वल्लभे,*
*ज्ञान वैराग्य सिद्धयर्थ भिक्षा देहिं च पार्वती*
*माता च पार्वती देवी पिता देवो महेश्वरः।*
*बान्धवाः शिवा भक्ताश्च स्वदेशो भुवनत्र्यम।।*
माता पार्वती जी ने कहा ; –
*विश्वनाथ मम नाथ पुरारी ,त्रिभुवन महिमा विदित तुम्हारी।*
*चर अस अचर नाग नर देवा ,सकल करहिं पद पंकज सेवा।।*
अर्थात ; – हे संसार के स्वामी ! मेरे नाथ हे त्रिपुरारी का वध करने वाले ! आपकी महिमा तीनों लोक में विख्यात है। चर ,अचर ,नाग,मनुष्य ,और देवता सभी आपके चरण कमलों की सेवा करते हैं।
*श्री शिवाय नमस्तुभ्यं*
जय श्री राम जय जय हनुमान जी 🚩
🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
शशिकला व्यास ✍

Language: Hindi
2 Likes · 102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Shashi kala vyas

You may also like:
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
तेरे दिल में कब आएं हम
तेरे दिल में कब आएं हम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम
हम
Ankit Kumar
*मजदूर*
*मजदूर*
Shashi kala vyas
💐प्रेम कौतुक-454💐
💐प्रेम कौतुक-454💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पैसा
पैसा
Kanchan Khanna
कैद अधरों मुस्कान है
कैद अधरों मुस्कान है
Dr. Sunita Singh
तेरे इंतज़ार में
तेरे इंतज़ार में
Surinder blackpen
पत्नी की प्रतिक्रिया
पत्नी की प्रतिक्रिया
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
Love is beyond all the limits .
Love is beyond all the limits .
Sakshi Tripathi
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
Surya Barman
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
लक्ष्मी सिंह
Bhuneshwar Sinha Congress leader Chhattisgarh. bhuneshwar sinha politician chattisgarh
Bhuneshwar Sinha Congress leader Chhattisgarh. bhuneshwar sinha politician chattisgarh
Bramhastra sahityapedia
क्या है उसके संवादों का सार?
क्या है उसके संवादों का सार?
Manisha Manjari
दंगा पीड़ित कविता
दंगा पीड़ित कविता
Shyam Pandey
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
Vishal babu (vishu)
Helping hands🙌 are..
Helping hands🙌 are..
Vandana maurya
ख्वाहिशों के समंदर में।
ख्वाहिशों के समंदर में।
Taj Mohammad
किसा गौतमी बुद्ध अर्हन्त्
किसा गौतमी बुद्ध अर्हन्त्
Buddha Prakash
फूल कितना ही ख़ूबसूरत हो
फूल कितना ही ख़ूबसूरत हो
Ranjana Verma
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
Simmy Hasan
फ़ितरत को जब से
फ़ितरत को जब से
Dr fauzia Naseem shad
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
पंछी और पेड़
पंछी और पेड़
नन्दलाल सुथार "राही"
"जाने कितना कुछ सहा, यूं ही नहीं निखरा था मैं।
*Author प्रणय प्रभात*
ह्रदय की कसक
ह्रदय की कसक
Dr. Rajiv
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
यश तुम्हारा भी होगा।
यश तुम्हारा भी होगा।
Rj Anand Prajapati
*वोट डालकर आओ भइया (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*वोट डालकर आओ भइया (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
Loading...