Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2021 · 1 min read

*महाराज श्री अग्रसेन को, सौ-सौ बार प्रणाम है 【गीत】*

महाराज श्री अग्रसेन को, सौ-सौ बार प्रणाम है 【गीत】
■■■■■■■■■■■■■■■■
महाराज श्री अग्रसेन को, सौ-सौ बार प्रणाम है
(1)
एक राष्ट्र जन एक भाव के, अद्भुत आप प्रणेता
जन-जन के हृदयों पर शासन करते वीर विजेता
प्रजा – जनों में सीख आपने समता की फैलाई
बँटी अठारह गोत्रों में यह शक्ति एक कहलाई
एक सूत्र में बँधा हुआ, अग्रोहा दैवी – धाम है
महाराज श्री अग्रसेन को सौ – सौ बार प्रणाम है
(2)
यज्ञों में पशुओं की बलि को अस्वीकार किया था
करुणा दया अहिंसा का जग को संदेश दिया था
कहा आपने सब जीवों को सदा आत्मवत मानो
कभी न हिंसा करो ईश को सब में जाग्रत जानो
शाकाहार आपका ही, जग को प्रदत्त आयाम है
महाराज श्री अग्रसेन को सौ – सौ बार प्रणाम है

(3)
एक ईंट का एक रुपै का अनुपम चलन चलाया
अग्रोहा में रहा न कोई निर्धन नहीं पराया
सब में प्रीति परस्पर बसती बंधुभाव गहराता
बन जाता धनवान सहज ही जो गरीब हो जाता
समतावादी राज्य इसलिए, अग्रोहा परिणाम है
महाराज श्री अग्रसेन को सौ सौ बार प्रणाम है
“””””””””'”””””””””””””'””'””””””””‘
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
Har Ghar Tiranga
Har Ghar Tiranga
Tushar Jagawat
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
Phool gufran
💐प्रेम कौतुक-410💐
💐प्रेम कौतुक-410💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मसल कर कली को
मसल कर कली को
Pratibha Pandey
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
Arvind trivedi
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
ईश्वर ने तो औरतों के लिए कोई अलग से जहां बनाकर नहीं भेजा। उस
Annu Gurjar
दिल का भी क्या कसूर है
दिल का भी क्या कसूर है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
आर.एस. 'प्रीतम'
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
Atul Mishra
अपनों को दे फायदा ,
अपनों को दे फायदा ,
sushil sarna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आलेख-गोविन्द सागर बांध ललितपुर उत्तर प्रदेश
आलेख-गोविन्द सागर बांध ललितपुर उत्तर प्रदेश
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मां की ममता जब रोती है
मां की ममता जब रोती है
Harminder Kaur
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
जीवन -जीवन होता है
जीवन -जीवन होता है
Dr fauzia Naseem shad
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
Indramani Sabharwal
Budhape ki lathi samjhi
Budhape ki lathi samjhi
Sakshi Tripathi
होरी के हुरियारे
होरी के हुरियारे
Bodhisatva kastooriya
*दादी बाबा पोता पोती, मिलकर घर कहलाता है (हिंदी गजल)*
*दादी बाबा पोता पोती, मिलकर घर कहलाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मेरे सिवा कौन इतना, चाहेगा तुमको
मेरे सिवा कौन इतना, चाहेगा तुमको
gurudeenverma198
3169.*पूर्णिका*
3169.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
पेड़ और चिरैया
पेड़ और चिरैया
Saraswati Bajpai
कविता कि प्रेम
कविता कि प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कर्म भाव उत्तम रखो,करो ईश का ध्यान।
कर्म भाव उत्तम रखो,करो ईश का ध्यान।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जी-२० शिखर सम्मेलन
जी-२० शिखर सम्मेलन
surenderpal vaidya
पत्नी रुष्ट है
पत्नी रुष्ट है
Satish Srijan
शक्कर में ही घोलिए,
शक्कर में ही घोलिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Life is like party. You invite a lot of people. Some leave e
Life is like party. You invite a lot of people. Some leave e
पूर्वार्थ
Loading...