Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 1 min read

महादेव को जानना होगा

ढूंढना किसे चाहते हो, क्या कोई ढुंढ उन्हें पाया है।
प्रकृति के कण कण में, मेरे महादेव की ही माया है।
प्रारंभ उन्ही से होता है, हर अंत की वही शुरुआत है।
क्यो ढूंढ रहे हो जग में, महादेव तेरे मन में समाया है।।

ढूंढने पर वह नहीं मिलेंगे, हमें महादेव को जानना होगा।
तर्क वितर्क के विचारों से, हमें मन को शांत करना होगा।
लहरों के शांत हो जाने पर, पानी मे प्रतिबिंब बन जाता है।
शब्द भावों से शांत मन में, शिव का प्रतिबिंब बन जाता है।

जब तक हमारे अंदर सांस है, तो शिव हमारे अंदर है।
हमारे अंदर सांस नहीं है, तब हम शिव के अंदर हैं।
हर प्रश्न का उत्तर शिव है, और हर प्रश्न भी शिव से है।
सत्य ही शिव है, शिव से शक्ति व शिव शक्ति ही सुंदर है।

अभी जो प्रत्यक्ष है, वही सत्य है, बस यही तो हमारा भ्रम होगा।
शिव को ढूंढना नहीं पहचाना है, अपने आप को जानना होगा।
जो है वह शिव है, जो नहीं है वह भी शिव है, शिव ही सत्य है।
ना तुम किसी के हो, ना कोई तुम्हारा है, और यही वो सत्य है।

शब्द है, ना अंक है, ना ही कोई आकर है, शिव तो निराकार है।
शिव त्याग समर्पण अभिमानि भक्तिमन को मिटाने का विकार है।
आकाश में वह पाताल में है, धरती के हर कण कण में शंकर है।
प्रकृति से पुरुष पृथक नही होता है, हर जीव के मन मे शंकर है।

लीलाधर चौबिसा (अनिल)
चित्तौड़गढ़ 9829246588

Language: Hindi
46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
Phool gufran
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
फागुनी धूप, बसंती झोंके
फागुनी धूप, बसंती झोंके
Shweta Soni
#गीत-
#गीत-
*Author प्रणय प्रभात*
Adha's quote
Adha's quote
Adha Deshwal
हरे कृष्णा !
हरे कृष्णा !
MUSKAAN YADAV
घड़ी
घड़ी
SHAMA PARVEEN
#तुम्हारा अभागा
#तुम्हारा अभागा
Amulyaa Ratan
"जीवनसाथी राज"
Dr Meenu Poonia
"सुरेंद्र शर्मा, मरे नहीं जिन्दा हैं"
Anand Kumar
मॉडर्न किसान
मॉडर्न किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
धुनी रमाई है तेरे नाम की
धुनी रमाई है तेरे नाम की
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
योगी?
योगी?
Sanjay ' शून्य'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
" जुदाई "
Aarti sirsat
******शिव******
******शिव******
Kavita Chouhan
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तारीफ....... तुम्हारी
तारीफ....... तुम्हारी
Neeraj Agarwal
ऑंखों से सीखा हमने
ऑंखों से सीखा हमने
Harminder Kaur
टूटते उम्मीदों कि उम्मीद
टूटते उम्मीदों कि उम्मीद
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नवयुग का भारत
नवयुग का भारत
AMRESH KUMAR VERMA
"राखी"
Dr. Kishan tandon kranti
बाल कविता : काले बादल
बाल कविता : काले बादल
Rajesh Kumar Arjun
*डॉ. विश्व अवतार जैमिनी की बाल कविताओं का सौंदर्य*
*डॉ. विश्व अवतार जैमिनी की बाल कविताओं का सौंदर्य*
Ravi Prakash
जय अन्नदाता
जय अन्नदाता
gurudeenverma198
ये मतलबी ज़माना, इंसानियत का जमाना नहीं,
ये मतलबी ज़माना, इंसानियत का जमाना नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पलक झपकते हो गया, निष्ठुर  मौन  प्रभात ।
पलक झपकते हो गया, निष्ठुर मौन प्रभात ।
sushil sarna
2349.पूर्णिका
2349.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तीन मुट्ठी तन्दुल
तीन मुट्ठी तन्दुल
कार्तिक नितिन शर्मा
*
*"सरहदें पार रहता यार है**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...