Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

महबूबा

सरहदों की रक्षा करते हुए, वीर सैनिक का लहू उबल जाता है।
तन-मन में फुर्ती बनी रहती, धमनियों का पारा उछल जाता है।
सरहदों पे डटे हर फौजी को, हम सब आठवाॅं अजूबा कहते हैं।
ये आशिक भी इस सरज़मीं को, न जाने क्यों महबूबा कहते हैं?

इस तिरंगे के आगे हर फौजी, राष्ट्रीय सुरक्षा की शपथ खाता है।
एक प्रहरी अपना सर्वस्व ही, एक देश पे बलिदान कर आता है।
हम तो इन साहसी वीरों को, देशभक्ति के नशे में डूबा कहते हैं।
ये आशिक भी इस सरज़मीं को, न जाने क्यों महबूबा कहते हैं?

जब जब भारत पर संकट पड़ा, इन्होंने जीवन अपना त्यागा है।
इनके अदम्य साहस को देखकर, दुश्मन भी उल्टे पाॅंव भागा है।
इन्हें देश का अभेद कवच, सबकी भलाई का मनसूबा कहते हैं।
ये आशिक भी इस सरज़मीं को, न जाने क्यों महबूबा कहते हैं?

सैनिक रहेगा तो कोई दुश्मन, कभी सीमा पार नहीं कर पायेगा।
जितनी बार दुस्साहस करेगा, वो उतनी ही बार मुंह की खायेगा।
दुश्मन की चाल हो बेहाल, इसे ही तो सेना का तजुर्बा कहते हैं।
ये आशिक भी इस सरज़मीं को, न जाने क्यों महबूबा कहते हैं?

Language: Hindi
4 Likes · 49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्वार्थ
स्वार्थ
Sushil chauhan
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
Trishika S Dhara
तीर'गी  तू  बता  रौशनी  कौन है ।
तीर'गी तू बता रौशनी कौन है ।
Neelam Sharma
विश्व कप
विश्व कप
Pratibha Pandey
मॉडर्न किसान
मॉडर्न किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"भाभी की चूड़ियाँ"
Ekta chitrangini
आखिरी ख्वाहिश
आखिरी ख्वाहिश
Surinder blackpen
ज्ञान-दीपक
ज्ञान-दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक ऐसी दुनिया बनाऊँगा ,
एक ऐसी दुनिया बनाऊँगा ,
Rohit yadav
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2879.*पूर्णिका*
2879.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
अबके तीजा पोरा
अबके तीजा पोरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
खामोशियां पढ़ने का हुनर हो
खामोशियां पढ़ने का हुनर हो
Amit Pandey
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
कवि रमेशराज
शुम प्रभात मित्रो !
शुम प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
स्वतंत्रता और सीमाएँ - भाग 04 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
*सत्य की खोज*
*सत्य की खोज*
Dr Shweta sood
छेड़ कोई तान कोई सुर सजाले
छेड़ कोई तान कोई सुर सजाले
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*पाते असली शांति वह ,जिनके मन संतोष (कुंडलिया)*
*पाते असली शांति वह ,जिनके मन संतोष (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिन्दगी के हर सफे को ...
जिन्दगी के हर सफे को ...
Bodhisatva kastooriya
बिताया कीजिए कुछ वक्त
बिताया कीजिए कुछ वक्त
पूर्वार्थ
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
ruby kumari
रोशन
रोशन
अंजनीत निज्जर
मतदान
मतदान
Kanchan Khanna
वक्त गुजर जायेगा
वक्त गुजर जायेगा
Sonu sugandh
आज का दिन
आज का दिन
Punam Pande
Loading...