Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

‘महंगाई की मार’

‘महंगाई की मार’

बढ़ गई है महंगाई इतनी, जिसका न कोई पार है।
चारों ओर एक ही चर्चा, महंगाई की मार है॥

दिन उगते ही काम पे लगते, दिन डूबे तक करते।
फिर भी गुजर बसर हम अपना, मुश्किल से ही करते॥
अब तो जीना हुआ कठिन, चारों ही तरफ अंधकार है।
बढ़ गई है महंगाई इतनी, जिसका न कोई पार है॥

घर में कभी कमी राशन की, कभी नहीं है कपड़े।
सर्दी में बिन स्वेटर रजाई, रहे ठिठुरते अकड़े॥
कोई नहीं है सुनने वाला, यह कैसी सरकार है।
बढ़ गई है महंगाई इतनी, जिसका न कोई पार है॥

अफ़सर नेता पूंजीपति हैं, या इनके हरकारे।
खेती करने वाले अब तो, है केवल बेचारे॥
‘अंकुर’ अब न होत गुजारा, करते जतन हजार है।
बढ़ गई है महंगाई इतनी, जिसका न कोई पार है॥

– निरंजन कुमार तिलक ‘अंकुर’
जैतपुर, जिला छतरपुर मध्यप्रदेश
मोबाइल नं. – 9752606136

Language: Hindi
245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल - रहते हो
ग़ज़ल - रहते हो
Mahendra Narayan
संस्कृत के आँचल की बेटी
संस्कृत के आँचल की बेटी
Er.Navaneet R Shandily
उनके ही नाम
उनके ही नाम
Bodhisatva kastooriya
एक अजब सा सन्नाटा है
एक अजब सा सन्नाटा है
लक्ष्मी सिंह
पतंग को हवा की दिशा में उड़ाओगे तो बहुत दूर तक जाएगी नहीं तो
पतंग को हवा की दिशा में उड़ाओगे तो बहुत दूर तक जाएगी नहीं तो
Rj Anand Prajapati
रिश्ते की नियत
रिश्ते की नियत
पूर्वार्थ
■ 2023/2024 👌
■ 2023/2024 👌
*Author प्रणय प्रभात*
सुकरात के मुरीद
सुकरात के मुरीद
Shekhar Chandra Mitra
फूल
फूल
Punam Pande
परमूल्यांकन की न हो
परमूल्यांकन की न हो
Dr fauzia Naseem shad
"ऐनक"
Dr. Kishan tandon kranti
23/81.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/81.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
!! शिव-शक्ति !!
!! शिव-शक्ति !!
Chunnu Lal Gupta
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
Radhakishan R. Mundhra
लोकतंत्र का मंत्र
लोकतंत्र का मंत्र
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
एहसासों से भरे पल
एहसासों से भरे पल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*मेला (बाल कविता)*
*मेला (बाल कविता)*
Ravi Prakash
यारा  तुम  बिन गुजारा नही
यारा तुम बिन गुजारा नही
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
Anand Kumar
मंज़िल का पता है न ज़माने की खबर है।
मंज़िल का पता है न ज़माने की खबर है।
Phool gufran
अब तो  सब  बोझिल सा लगता है
अब तो सब बोझिल सा लगता है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
जय जय जगदम्बे
जय जय जगदम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Perfection, a word which cannot be described within the boun
Sukoon
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
डॉ. दीपक मेवाती
नवगीत
नवगीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐प्रेम कौतुक-541💐
💐प्रेम कौतुक-541💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नफ़्स
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
ईश्वर का उपहार है बेटी, धरती पर भगवान है।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
When life  serves you with surprises your planning sits at b
When life serves you with surprises your planning sits at b
Nupur Pathak
Loading...