Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2023 · 1 min read

मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम

सरयू नदी के तट पर विराजमान पावन धाम मर्यादा पुरुषोत्तम श्री रामचंद्र की जन्मस्थली अयोध्या, श्री राम प्रभु समाज को कर्त्तव्यता का वह पाठ बता गए हैं, कि कर्त्तव्य ही सर्वोपरि हैं।

पिता के वचन हेतु चौदह वर्ष वनवास में जीवन यापन, राज धर्म कर्त्तव्यता तो उनको अपने आप से ही विरक्त कर दिया, कर्त्तव्यता हेतु इतना बड़ा त्याग तो एक सच्चा प्रेमी ही कर सकता हैं। कर्त्तव्यता हेतु श्री रामचंद्र माता सीता ने अपने प्रेम का बलिदान कर दिया, अपने प्रजा हेतु।

सभी गुणों के स्वामी सर्वोपरि श्री राम चंद्र मातृ प्रेम, भ्रातृ प्रेम, पुत्र प्रेम, प्रियशी प्रेम, उनकी धरोहर थी।
सदैव ब्राह्मण स्त्री निर्बल की सहायता किया, अपनी मित्रता को कर्त्तव्यता पूर्वक निष्ठा से निभाया।

कर्त्तव्यता उनके आचरण की आदर्शवान, मर्यादावान बन गए, मर्यादा की सीमा कर्त्तव्य परिधि उत्तम कार्य करने वाले प्रभु श्रीराम बहुविवाह प्रथा का त्याग कर नारी को उच्च सम्मान से समाज में उचित स्थान दे, मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम कहलाए। जय श्री राम

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 481 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Er.Navaneet R Shandily
View all
You may also like:
अगले 72 घण्टों के दौरान
अगले 72 घण्टों के दौरान
*Author प्रणय प्रभात*
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
कवि रमेशराज
माँ काली साक्षात
माँ काली साक्षात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
Santosh Soni
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
Keshav kishor Kumar
सिंदूरी भावों के दीप
सिंदूरी भावों के दीप
Rashmi Sanjay
* नव जागरण *
* नव जागरण *
surenderpal vaidya
फ़क़त मिट्टी का पुतला है,
फ़क़त मिट्टी का पुतला है,
Satish Srijan
जीवन भर चलते रहे,
जीवन भर चलते रहे,
sushil sarna
जीवन
जीवन
Neeraj Agarwal
एक लड़का,
एक लड़का,
हिमांशु Kulshrestha
बाट का बटोही ?
बाट का बटोही ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चिड़िया की बस्ती
चिड़िया की बस्ती
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अस्ताचलगामी सूर्य
अस्ताचलगामी सूर्य
Mohan Pandey
मेरी माँ......
मेरी माँ......
Awadhesh Kumar Singh
शिर ऊँचा कर
शिर ऊँचा कर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अंधेर नगरी-चौपट राजा
अंधेर नगरी-चौपट राजा
Shekhar Chandra Mitra
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
लाख दुआएं दूंगा मैं अब टूटे दिल से
लाख दुआएं दूंगा मैं अब टूटे दिल से
Shivkumar Bilagrami
जुनून
जुनून
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (2)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (2)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बापू तेरे देश में...!!
बापू तेरे देश में...!!
Kanchan Khanna
लघुकथा क्या है
लघुकथा क्या है
आचार्य ओम नीरव
"उम्मीदों की जुबानी"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...