Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

मर्दुम-बेज़ारी

बड़ी-बड़ी बातों का इल्म़ बांटना बहुत आसान है ,
उनका ‘अमल उतना ही मुश्किल ना आसान है ,

हक़ीक़त में इंसानी फ़ितरत आड़े आती है ,
जो बनते काम को बिगाड़े जाती है ,

हर कदम पर झूठ और फ़रेब से दो-चार होना पड़ता है ,
ज़लालत और खुदगर्ज़ी का सामना करना पड़ता है,

दौलत और रुसूख़ की वाहवाही होती है ,
अख़लाक और दानिश-मंदी हाथ मलते रह जाती है ,

रिश्ते भी कन्नी काट जाते हैं ,
दोस्त भी कुछ काम ना आते हैं ,

गर्दिश-ए- दौराँ में सब कुछ जज़्ब करना पड़ता है ,
ज़िंदा रहकर वक्त गुज़ारना पड़ता है।

2 Likes · 49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
Upon waking up, oh, what do I see?!!
Upon waking up, oh, what do I see?!!
R. H. SRIDEVI
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"पता"
Dr. Kishan tandon kranti
■ नज़रिया बदले तो नज़ारे भी बदल जाते हैं।
■ नज़रिया बदले तो नज़ारे भी बदल जाते हैं।
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम की राह।
प्रेम की राह।
लक्ष्मी सिंह
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
3201.*पूर्णिका*
3201.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अभी कुछ बरस बीते
अभी कुछ बरस बीते
shabina. Naaz
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr. Priya Gupta
मातृभूमि
मातृभूमि
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वार्तालाप
वार्तालाप
Shyam Sundar Subramanian
जो राम हमारे कण कण में थे उन पर बड़ा सवाल किया।
जो राम हमारे कण कण में थे उन पर बड़ा सवाल किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हो गया
हो गया
sushil sarna
जिंदगी में कभी उदास मत होना दोस्त, पतझड़ के बाद बारिश ज़रूर आत
जिंदगी में कभी उदास मत होना दोस्त, पतझड़ के बाद बारिश ज़रूर आत
Pushpraj devhare
युवा अंगार
युवा अंगार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्यार के पंछी
प्यार के पंछी
Neeraj Agarwal
उसका प्यार
उसका प्यार
Dr MusafiR BaithA
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
kaustubh Anand chandola
चंद अशआर -ग़ज़ल
चंद अशआर -ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
" मिट्टी के बर्तन "
Pushpraj Anant
वो मुझे प्यार नही करता
वो मुझे प्यार नही करता
Swami Ganganiya
कोई वजह अब बना लो सनम तुम... फिर से मेरे करीब आ जाने को..!!
कोई वजह अब बना लो सनम तुम... फिर से मेरे करीब आ जाने को..!!
Ravi Betulwala
आखिरी वक्त में
आखिरी वक्त में
Harminder Kaur
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
अब तो हमको भी आती नहीं, याद तुम्हारी क्यों
gurudeenverma198
घर बन रहा है
घर बन रहा है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
* काव्य रचना *
* काव्य रचना *
surenderpal vaidya
चिन्ता और चिता मे अंतर
चिन्ता और चिता मे अंतर
Ram Krishan Rastogi
जहर    ना   इतना  घोलिए
जहर ना इतना घोलिए
Paras Nath Jha
साधना से सिद्धि.....
साधना से सिद्धि.....
Santosh Soni
हिंदी मेरी माँ
हिंदी मेरी माँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...