Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2024 · 1 min read

मरहटा छंद

मरहटा छंद 29 मात्रिक छंद ( मुक्तक)
चार चरण , प्रतिचरण 29 मात्रा ,
क्रमशः 10 -8-11मात्रा पर यति,
पदांत गुरु लघु
****
मरहटा छंद मुक्तक

हम सब यह माने , इतना जाने , भारत प्यारा देश |
रहता है पावन , मन को भावन , शुचिमय सब परिवेश |
यह लगता महान , देखे जहान ,शांति और सद्भाव –
रहते है हिलमिल , साफ रखें दिल , भूलें सारे द्वेष |

सुभाष सिंघई

मरहटा छंद

तिथि रही बाईस , दिखे जगदीश , अवध पुरी में राम |
दूर हुए सब गम , भागा है तम , जन-जन करे प्रणाम ||
चहुँ दिशा उल्लास , हटे सब त्रास , सजा अयोध्या धाम |
जागा स्वाभिमान , राम का गान , करता है हर ग्राम ||

सुभाष सिंघई

दिन लगता पावन, है मन भावन, धन्य सुबह है शाम |
जन सब मिल गाते , खुशी मनाते , नगर अयोध्या धाम ||
है प्राण प्रतिष्ठा , प्रभु में निष्ठा , करते उन्हें प्रणाम |
सब मंगल देखें , मन में लेखें , बोले जय श्रीराम ||

सब बीती बातें , काली रातें , नहीं रहीं अब क्रूर |
बैठे अब रघुवर , हँसते तरुवर ,दिव्य भव्य है नूर ||
है भारत प्यारा , लगता न्यारा , जगा सनातन शूर |
जय मथुरा काशी , जो अविनाशी , नहीं दिखे अब दूर ||

सुभाष सिंघई
एम•ए• हिंदी साहित्य, दर्शन शास्त्र ,जतारा (टीकमगढ़) म०प्र०

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
फूल और खंजर
फूल और खंजर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इश्क की वो  इक निशानी दे गया
इश्क की वो इक निशानी दे गया
Dr Archana Gupta
सवालात कितने हैं
सवालात कितने हैं
Dr fauzia Naseem shad
ऋतु गर्मी की आ गई,
ऋतु गर्मी की आ गई,
Vedha Singh
इंसान
इंसान
विजय कुमार अग्रवाल
पाती
पाती
डॉक्टर रागिनी
#हौंसले
#हौंसले
पूर्वार्थ
बापू के संजय
बापू के संजय
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
Manisha Manjari
आंधियों से हम बुझे तो क्या दिए रोशन करेंगे
आंधियों से हम बुझे तो क्या दिए रोशन करेंगे
कवि दीपक बवेजा
मित्र
मित्र
लक्ष्मी सिंह
ढलता वक्त
ढलता वक्त
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Anand mantra
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
नदी
नदी
Kumar Kalhans
कब तक
कब तक
आर एस आघात
*जानो आँखों से जरा ,किसका मुखड़ा कौन (कुंडलिया)*
*जानो आँखों से जरा ,किसका मुखड़ा कौन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
महादान
महादान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*दीपावली का ऐतिहासिक महत्व*
*दीपावली का ऐतिहासिक महत्व*
Harminder Kaur
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
कवि रमेशराज
होली
होली
Madhavi Srivastava
कहां से कहां आ गए हम....
कहां से कहां आ गए हम....
Srishty Bansal
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Sakshi Tripathi
खुद से ज्यादा अहमियत
खुद से ज्यादा अहमियत
Dr Manju Saini
एक नया अध्याय लिखूं
एक नया अध्याय लिखूं
Dr.Pratibha Prakash
मेरी शायरी की छांव में
मेरी शायरी की छांव में
शेखर सिंह
* भावना स्नेह की *
* भावना स्नेह की *
surenderpal vaidya
नव वर्ष की बधाई -2024
नव वर्ष की बधाई -2024
Raju Gajbhiye
Loading...