Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

मरने में अचरज कहाँ ,जीने में आभार (कुंडलिया)

मरने में अचरज कहाँ ,जीने में आभार (कुंडलिया)
———————————————–
मरने में अचरज कहाँ ,जीने में आभार
दया रोज प्रभु कर रहे ,धन्यवाद सौ बार
धन्यवाद सौ बार , प्रात की स्वर्णिम रेखा
देखी घिरती शाम, चंद्रमा निशि का देखा
कहते रवि कविराय ,आयु दो पूरी करने
प्रभु हों जब सौ साल ,हर्ष से जाएँ मरने
—————————————–
रचयिता : रवि प्रकाश, बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

1 Like · 1 Comment · 268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
मैं मित्र समझता हूं, वो भगवान समझता है।
Sanjay ' शून्य'
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
बाबा तेरा इस कदर उठाना ...
Sunil Suman
"दिल का हाल सुने दिल वाला"
Pushpraj Anant
सच्चा धर्म
सच्चा धर्म
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उस रब की इबादत का
उस रब की इबादत का
Dr fauzia Naseem shad
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
पंकज कुमार कर्ण
प्रेम का दरबार
प्रेम का दरबार
Dr.Priya Soni Khare
सृष्टि भी स्त्री है
सृष्टि भी स्त्री है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
3135.*पूर्णिका*
3135.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तन्हाई
तन्हाई
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"सम्भव"
Dr. Kishan tandon kranti
बदनाम
बदनाम
Neeraj Agarwal
#आत्मीय_मंगलकामनाएं
#आत्मीय_मंगलकामनाएं
*प्रणय प्रभात*
#तुम्हारा अभागा
#तुम्हारा अभागा
Amulyaa Ratan
तेरे मेरे बीच में,
तेरे मेरे बीच में,
नेताम आर सी
श्री राम अमृतधुन भजन
श्री राम अमृतधुन भजन
Khaimsingh Saini
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
मनवा मन की कब सुने, करता इच्छित काम ।
sushil sarna
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
Paras Nath Jha
मोनू बंदर का बदला
मोनू बंदर का बदला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
महाभारत युद्ध
महाभारत युद्ध
Anil chobisa
मुक्तक –  अंत ही आरंभ है
मुक्तक – अंत ही आरंभ है
Sonam Puneet Dubey
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
Phool gufran
बाल कविता: तितली
बाल कविता: तितली
Rajesh Kumar Arjun
श्याम बाबा भजन अरविंद भारद्वाज
श्याम बाबा भजन अरविंद भारद्वाज
अरविंद भारद्वाज
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
Sonu sugandh
*****श्राद्ध कर्म*****
*****श्राद्ध कर्म*****
Kavita Chouhan
Keep yourself secret
Keep yourself secret
Sakshi Tripathi
रानी मर्दानी
रानी मर्दानी
Dr.Pratibha Prakash
कृष्ण सुदामा मित्रता,
कृष्ण सुदामा मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अगर किसी के पास रहना है
अगर किसी के पास रहना है
शेखर सिंह
Loading...