Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2024 · 1 min read

“मयकश”

“मयकश”
उस मयकश से पूछिए
यूँ जाम का नशा
शबाब कैसे छाता है
पिलाए साकी जब हौले-हौले.

1 Like · 1 Comment · 63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
sushil sarna
जीवन उत्साह
जीवन उत्साह
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बातें कितनी प्यारी प्यारी...
बातें कितनी प्यारी प्यारी...
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Bodhisatva kastooriya
In the midst of a snowstorm of desirous affection,
In the midst of a snowstorm of desirous affection,
Sukoon
Jindagi Ke falsafe
Jindagi Ke falsafe
Dr Mukesh 'Aseemit'
"Multi Personality Disorder"
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Stop chasing people who are fine with losing you.
Stop chasing people who are fine with losing you.
पूर्वार्थ
प्रीत ऐसी जुड़ी की
प्रीत ऐसी जुड़ी की
Seema gupta,Alwar
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
"साये"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम आ जाते तो उम्मीद थी
तुम आ जाते तो उम्मीद थी
VINOD CHAUHAN
राम की मंत्री परिषद
राम की मंत्री परिषद
Shashi Mahajan
जज़्बा है, रौशनी है
जज़्बा है, रौशनी है
Dhriti Mishra
सेर
सेर
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
धन्य सूर्य मेवाड़ भूमि के
धन्य सूर्य मेवाड़ भूमि के
surenderpal vaidya
ख़ुद को यूं ही
ख़ुद को यूं ही
Dr fauzia Naseem shad
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
उलझते रिश्तो को सुलझाना मुश्किल हो गया है
Harminder Kaur
देखिए आप अपना भाईचारा कायम रखे
देखिए आप अपना भाईचारा कायम रखे
शेखर सिंह
शृंगार छंद और विधाएँ
शृंगार छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
Anil Mishra Prahari
2396.पूर्णिका
2396.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं।
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
#लानत_के_साथ...
#लानत_के_साथ...
*प्रणय प्रभात*
उछल कूद खूब करता रहता हूं,
उछल कूद खूब करता रहता हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सफलता का मार्ग
सफलता का मार्ग
Praveen Sain
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...