Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

मम्मी मम्मा तू माता है !

मम्मी मम्मा तू माता है !
हमको तो कुछ नही आता है !!

कोमल ह्रदय और वाणी मधुर !
गाऊ मै दिल से बन जाये सुर !!

तेरे बिना कुछ नहीं भाता है !
मम्मी मम्मा तू माता है !!

हमेशा सही मार्ग पर ही चलू !
माँ तेरी कृपा से मै फूलू फलू !!

माने तुम्हे जो भी सुख पाता है !
मम्मी मम्मा तू माता है !!

रोशन करू मै, माँ तेरा नाम !
तेरे ही चरणों में हो चारोधाम !!

माँ बेटे का अनमोल नाता है !
मम्मी मम्मा तू माता है !!

कलयुग में माता पिता ही है सबकुछ !
मानो तो यारो ईश्वर है सचमुच !!

सेवा करे जो नर तर जाता है !
मम्मी मम्मा तू माता है !!

Language: Hindi
677 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कर्णधार
कर्णधार
Shyam Sundar Subramanian
कर पुस्तक से मित्रता,
कर पुस्तक से मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रुसवा दिल
रुसवा दिल
Akash Yadav
World Blood Donar's Day
World Blood Donar's Day
Tushar Jagawat
फोन:-एक श्रृंगार
फोन:-एक श्रृंगार
पूर्वार्थ
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
Santosh Barmaiya #jay
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
हम आज भी
हम आज भी
Dr fauzia Naseem shad
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
इल्जाम
इल्जाम
Vandna thakur
सबके साथ हमें चलना है
सबके साथ हमें चलना है
DrLakshman Jha Parimal
घर नही है गांव में
घर नही है गांव में
Priya Maithil
मिलकर नज़रें निगाह से लूट लेतीं है आँखें
मिलकर नज़रें निगाह से लूट लेतीं है आँखें
Amit Pandey
"अपेक्षा का ऊंचा पहाड़
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन का गीत
जीवन का गीत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुक़द्दस पाक यह जामा,
मुक़द्दस पाक यह जामा,
Satish Srijan
!! रे, मन !!
!! रे, मन !!
Chunnu Lal Gupta
*किसी बच्चे के जैसे मत खिलौनों से बहल जाता (मुक्तक)*
*किसी बच्चे के जैसे मत खिलौनों से बहल जाता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सनम  ऐसे ना मुझको  बुलाया करो।
सनम ऐसे ना मुझको बुलाया करो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
उनसे बिछड़ कर ना जाने फिर कहां मिले
उनसे बिछड़ कर ना जाने फिर कहां मिले
श्याम सिंह बिष्ट
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दोस्ती
दोस्ती
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तुम भी पत्थर
तुम भी पत्थर
shabina. Naaz
गम
गम
जय लगन कुमार हैप्पी
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
gurudeenverma198
"दुम"
Dr. Kishan tandon kranti
तीन मुट्ठी तन्दुल
तीन मुट्ठी तन्दुल
कार्तिक नितिन शर्मा
खैर-ओ-खबर के लिए।
खैर-ओ-खबर के लिए।
Taj Mohammad
#कुछ खामियां
#कुछ खामियां
Amulyaa Ratan
💐अज्ञात के प्रति-66💐
💐अज्ञात के प्रति-66💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...