Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2022 · 2 min read

मम्मी थी इसलिए मैं हूँ…!! मम्मी I Miss U😔

वो दुनिया की सबसे हसीन नज़र, जो मुझे दुनिया से खूबसूरत नज़र आया करती थी,

वो ज़िन्दगी के सबसे हसीन पल जिनमे उनके होने भर से खुशियाँ छा जाया करती थी,

वो दुनिया के सबसे हसीन झुर्रियों भरे हाथ जिनकी तस्वीर कभी हमारे गालों पर छप जाया करती थी,

वो दुनिया के सबसे हसीन पैर, जिनपर गिर कर हमारी किस्मत सँवर जाया करती थी,

वो दुनिया की सबसे प्यारी नींद जो उनकी गोद में सिर रखकर आया करती थी,

वो दुनिया की सबसे मीठी आवाज़, जो डाँट वो हमें लगाया करती थी,

वो मेरी दुनिया, मेरी ज़िन्दगी… मेरी मम्मी थी,
जो अब साथ नहीं पर उनका एहसास आज भी है…

वो गुस्से में भी प्यार जताती थी,
रोते-रोते भी वो हमें हँसाया करती थी,

मम्मी से बेहतर बच्चों कों कौन जानता हैं,
वहीं थी जिसके आँचल में हम कभी छिप जाया करते थे,

वहीं थी जिसकी बातों पे कभी हम रूठ जाया करते थे,
वहीं थी जो हमारी हर जरुरत कों पहले ना कहकर, चुपके से ले आया करती थी,

वहीं थी जो हमारी खातिर कभी दुनिया से लड़ जाया करती थी,
वहीं थी जो हमें कभी -कभी खुद से मिलाया करती थी…

वहीं थी मेरी मम्मी … जो खुद तकलीफ में होकर भी हमें हर तकलीफ से बचाया करती थी,

उनके आँसुओ को हम कभी पड़ ना सके, कितने दर्दो से वो सहम जाया करती थी,
मैं उनके एक दर्द को भी कम ना कर सका, और वो आँखरी वक़्त में भी हमारे अच्छे से रहने की दुआ मनाया करती थी…

उन्हें जाना होता अगर इन उलझनों से दूर तो वो कब का चली गयी होती,
मम्मी ने हमारी खातिर संघर्ष भरे दिनों में भी हार नहीं मानी,

गर्मी हो या बारिश हो या कड़ाके की ठण्ड,
मम्मी ने हर वक़्त हमारे लिए, अपनी खुशियों को कुर्बान किया,
मैं स्तब्ध हूँ उनके जाने से,
मैं भूल नहीं पाऊंगा उनका संघर्ष, उनका त्याग, उनकी यादे…
वो हमेशा मुझमे शामिल रहेगी… उनका अंश बनके,
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ…!!
मम्मी I Miss U😔😔
😔❤😔

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 297 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Misconceptions are both negative and positive. It is just ne
Misconceptions are both negative and positive. It is just ne
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अरुणोदय
अरुणोदय
Manju Singh
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
The_dk_poetry
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
Shweta Soni
शीर्षक-मिलती है जिन्दगी में मुहब्बत कभी-कभी
शीर्षक-मिलती है जिन्दगी में मुहब्बत कभी-कभी
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
व्यथा दिल की
व्यथा दिल की
Devesh Bharadwaj
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
Surinder blackpen
चाँद
चाँद
लक्ष्मी सिंह
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-394💐
💐प्रेम कौतुक-394💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2982.*पूर्णिका*
2982.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"Let us harness the power of unity, innovation, and compassi
Rahul Singh
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
gurudeenverma198
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
चांद-तारे तोड के ला दूं मैं
Swami Ganganiya
यायावर
यायावर
Satish Srijan
राम से जी जोड़ दे
राम से जी जोड़ दे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
Kavita Chouhan
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
Pramila sultan
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
आओ मिलकर नया साल मनाये*
आओ मिलकर नया साल मनाये*
Naushaba Suriya
*सूरज ने क्या पता कहॉ पर, सारी रात बिताई (हिंदी गजल)*
*सूरज ने क्या पता कहॉ पर, सारी रात बिताई (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
पिता पर एक गजल लिखने का प्रयास
पिता पर एक गजल लिखने का प्रयास
Ram Krishan Rastogi
■ समयोचित सलाह
■ समयोचित सलाह
*Author प्रणय प्रभात*
बड़ा ही सुकूँ देगा तुम्हें
बड़ा ही सुकूँ देगा तुम्हें
ruby kumari
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग
Dr MusafiR BaithA
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...