Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

“ममतामयी मिनीमाता”

“ममतामयी मिनीमाता”
तेरह मार्च उन्नीस सौ तेरह को जन्मी
असम प्रान्त दौलगॉंव,
उस सत्य अहिंसा प्रेम की प्रतिमूर्ति का
मीनाक्षी था मूल नाम।

1 Like · 1 Comment · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
तुम मेरे हो
तुम मेरे हो
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
आप चाहे जितने भी बड़े पद पर क्यों न बैठे हों, अगर पद के अनुर
Anand Kumar
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
Vedha Singh
"खाली हाथ"
इंजी. संजय श्रीवास्तव
जो बिकता है!
जो बिकता है!
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
संत पुरुष रहते सदा राग-द्वेष से दूर।
संत पुरुष रहते सदा राग-द्वेष से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
Ram Krishan Rastogi
धरती माँ ने भेज दी
धरती माँ ने भेज दी
Dr Manju Saini
*समझो बैंक का खाता (मुक्तक)*
*समझो बैंक का खाता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"विजेता"
Dr. Kishan tandon kranti
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
साईं बाबा
साईं बाबा
Sidhartha Mishra
2709.*पूर्णिका*
2709.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
किसी को उदास पाकर
किसी को उदास पाकर
Shekhar Chandra Mitra
मेरे ख्वाब ।
मेरे ख्वाब ।
Sonit Parjapati
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
हिज़ाब को चेहरे से हटाएँ किस तरह Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
उलझनें रूकती नहीं,
उलझनें रूकती नहीं,
Sunil Maheshwari
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
अच्छा लगने लगा है उसे
अच्छा लगने लगा है उसे
Vijay Nayak
जिंदगी और जीवन तो कोरा कागज़ होता हैं।
जिंदगी और जीवन तो कोरा कागज़ होता हैं।
Neeraj Agarwal
प्रेम भरी नफरत
प्रेम भरी नफरत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
अनिल कुमार
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍🏻 #ढीठ_की_शपथ
✍🏻 #ढीठ_की_शपथ
*प्रणय प्रभात*
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
VINOD CHAUHAN
!.........!
!.........!
शेखर सिंह
पछतावे की अग्नि
पछतावे की अग्नि
Neelam Sharma
Loading...