Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2016 · 1 min read

मन से मन का दीप जलाओ

मन से मन का दीप जलाओ
✍✍✍✍✍✍✍✍✍✍✍

मन से मन का दीप जलाओ
जगमग – जगमग दीवाली मनाओ

धनियों के घर वन्दरबार सजती
निर्धन के घर लक्ष्मी न ठहरती

मन से मन का दीप जलाओ
घृणा – द्वेष को मिल दूर भगाओ

घर घर जगमग दीप जलते है
नफरत के तम फिर भी न छँटते है

जगमग जगमग मनती दीवाली
गरीबों की दिखती है चौखट खाली

खूब धूम धड़काके पटाखे चटखते
आकाश में जा ऊपर राकेट फूटते

काहे की कैसी मन पाये दीवाली
अंटी हो जिसकी पैसे से खाली

गरीब की कैसे मनेगी दीवाली
खाने को जब हो कवल रोटी खाली

दीप अपनी बोली खुद लगाते है
गरीबी से हमेशा दूर भाग जाते

अमीरों की दहलीज सजाते है
फिर कैसे मना पाये गरीब दीवाली

दीपक भी जा बैठे है बहुमंजिलों पर
वहीं झिलमिलाती है रोशनियाँ

पटाखे पहचानने लगे है धनवानों को
वही फूटा करती आतिशबाजियाँ

यदि एक निर्धन का भर दे जो पेट
सबसे अच्छी मनती उसकी दीवाली

हजारों दीप जगमगा जायेंगे जग में
भूखे नंगों को यदि रोटी वस्त्र मिलेंगे

दुआओं से सारे जहाँ को महकायेंगे
आत्मा को नव आलोक से भर देगें

फुटपाथों पर पड़े रोज ही सड़ते है
सजाते जिन्दगी की वलियाँ रोज है

कोन सा दीप हो जाये गुम न पता
दिन होने पर सोच विवश हो जाते

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
Tag: कविता
72 Likes · 789 Views
You may also like:
रहस्य
Shyam Sundar Subramanian
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
मुहब्बत भी क्या है
shabina. Naaz
मित्र दिवस पर आपको, प्यार भरा प्रणाम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
मेरी चाह....।।
Rakesh Bahanwal
यह दुनियाँ
Anamika Singh
खींचो यश की लम्बी रेख
Pt. Brajesh Kumar Nayak
परेशां हूं बहुत।
Taj Mohammad
गीत- अमृत महोत्सव आजादी का...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मोहिनी
लक्ष्मी सिंह
आंसू
Harshvardhan "आवारा"
दिलदार आना बाकी है
Jatashankar Prajapati
क्रांतिवीर हेडगेवार*
Ravi Prakash
काँटों का दामन हँस के पकड़ लो
VINOD KUMAR CHAUHAN
Iran Revolution
Shekhar Chandra Mitra
तुझे मतलूब थी वो रातें कभी
Manoj Kumar
मैं बेचैन हो जाऊं
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
खेल दिवस पर विशेष
बिमल तिवारी आत्मबोध
✍️ग़लतफ़हमी✍️
'अशांत' शेखर
आईना
KAPOOR IQABAL
तूफान हूँ मैं
Aditya Prakash
“ हमारा निराला स्पेक्ट्रम ”
Dr Meenu Poonia
चिन्ता और चिता में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
मेरी क्यारी फूल भरी
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
Loading...