Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2016 · 1 min read

मन से मन का दीप जलाओ

मन से मन का दीप जलाओ
✍✍✍✍✍✍✍✍✍✍✍

मन से मन का दीप जलाओ
जगमग – जगमग दीवाली मनाओ

धनियों के घर वन्दरबार सजती
निर्धन के घर लक्ष्मी न ठहरती

मन से मन का दीप जलाओ
घृणा – द्वेष को मिल दूर भगाओ

घर घर जगमग दीप जलते है
नफरत के तम फिर भी न छँटते है

जगमग जगमग मनती दीवाली
गरीबों की दिखती है चौखट खाली

खूब धूम धड़काके पटाखे चटखते
आकाश में जा ऊपर राकेट फूटते

काहे की कैसी मन पाये दीवाली
अंटी हो जिसकी पैसे से खाली

गरीब की कैसे मनेगी दीवाली
खाने को जब हो कवल रोटी खाली

दीप अपनी बोली खुद लगाते है
गरीबी से हमेशा दूर भाग जाते

अमीरों की दहलीज सजाते है
फिर कैसे मना पाये गरीब दीवाली

दीपक भी जा बैठे है बहुमंजिलों पर
वहीं झिलमिलाती है रोशनियाँ

पटाखे पहचानने लगे है धनवानों को
वही फूटा करती आतिशबाजियाँ

यदि एक निर्धन का भर दे जो पेट
सबसे अच्छी मनती उसकी दीवाली

हजारों दीप जगमगा जायेंगे जग में
भूखे नंगों को यदि रोटी वस्त्र मिलेंगे

दुआओं से सारे जहाँ को महकायेंगे
आत्मा को नव आलोक से भर देगें

फुटपाथों पर पड़े रोज ही सड़ते है
सजाते जिन्दगी की वलियाँ रोज है

कोन सा दीप हो जाये गुम न पता
दिन होने पर सोच विवश हो जाते

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
72 Likes · 1066 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
ज़िंदगी तेरी हद
ज़िंदगी तेरी हद
Dr fauzia Naseem shad
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
goutam shaw
Kavita
Kavita
shahab uddin shah kannauji
Man has only one other option in their life....
Man has only one other option in their life....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक गजल
एक गजल
umesh mehra
तुम गर मुझे चाहती
तुम गर मुझे चाहती
Lekh Raj Chauhan
🌸🌼जाने कितने सावन बीत गए हैं🌼🌸
🌸🌼जाने कितने सावन बीत गए हैं🌼🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अंतर्राष्ट्रीय पाई दिवस पर....
अंतर्राष्ट्रीय पाई दिवस पर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
बदलती दुनिया
बदलती दुनिया
साहित्य गौरव
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
डरना नही आगे बढ़ना_
डरना नही आगे बढ़ना_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
थैला
थैला
Satish Srijan
'महंगाई की मार'
'महंगाई की मार'
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
आह
आह
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कोई पूछे तो
कोई पूछे तो
Surinder blackpen
*इश्क़ से इश्क़*
*इश्क़ से इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मौजु
मौजु
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
नहीं मिलते सभी सुख हैं किसी को भी ज़माने में
आर.एस. 'प्रीतम'
बंदूक के ट्रिगर पर नियंत्रण रखने से पहले अपने मस्तिष्क पर नि
बंदूक के ट्रिगर पर नियंत्रण रखने से पहले अपने मस्तिष्क पर नि
Rj Anand Prajapati
मोबाईल नहीं
मोबाईल नहीं
Harish Chandra Pande
कहां गए वे शायर?
कहां गए वे शायर?
Shekhar Chandra Mitra
आज का बदलता माहौल
आज का बदलता माहौल
Naresh Sagar
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
संभव है कि किसी से प्रेम या फिर किसी से घृणा आप करते हों,पर
Paras Nath Jha
*बीमारी सबसे बुरी, तन को करे कबाड़* (कुंडलिया)
*बीमारी सबसे बुरी, तन को करे कबाड़* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
*** यादों का क्रंदन ***
*** यादों का क्रंदन ***
Dr Manju Saini
मेरी अधिकांश पोस्ट
मेरी अधिकांश पोस्ट
*Author प्रणय प्रभात*
"परिपक्वता"
Dr Meenu Poonia
ईश्वर से यही अरज
ईश्वर से यही अरज
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मौसम तुझको देखते ,
मौसम तुझको देखते ,
sushil sarna
Loading...