Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Dec 2023 · 1 min read

मन में किसी को उतारने से पहले अच्छी तरह

मन में किसी को उतारने से पहले अच्छी तरह
सोच ले समझ ले जांच ले परख ले
मन में उतरने वाले लोग जब मन से उतरते हैं
आपको बीमार सा कर देते हैं।।
अतः बीमारी न पालें आपका मन अस्पताल नही
आपका मन वो उपवन है
जहां खरपतवार पनपने को व्याकुल हैं।।
Ruby

1 Like · 185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
পৃথিবীর সবচেয়ে সুন্দর মেয়েদের
পৃথিবীর সবচেয়ে সুন্দর মেয়েদের
Sakhawat Jisan
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
Ravi Ghayal
क्यों तुम उदास होती हो...
क्यों तुम उदास होती हो...
Er. Sanjay Shrivastava
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
Deepak Baweja
“ फेसबूक मित्रों की नादानियाँ ”
“ फेसबूक मित्रों की नादानियाँ ”
DrLakshman Jha Parimal
आहट
आहट
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
🙅क्षणिका🙅
🙅क्षणिका🙅
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन और मृत्यु के मध्य, क्या उच्च ये सम्बन्ध है।
जीवन और मृत्यु के मध्य, क्या उच्च ये सम्बन्ध है।
Manisha Manjari
*तितली आई 【बाल कविता】*
*तितली आई 【बाल कविता】*
Ravi Prakash
खुद के प्रति प्रतिबद्धता
खुद के प्रति प्रतिबद्धता
लक्ष्मी सिंह
**विकास**
**विकास**
Awadhesh Kumar Singh
💐अज्ञात के प्रति-72💐
💐अज्ञात के प्रति-72💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* खूबसूरत इस धरा को *
* खूबसूरत इस धरा को *
surenderpal vaidya
कहती गौरैया
कहती गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
भगतसिंह:एक मुक्त चिंतक
भगतसिंह:एक मुक्त चिंतक
Shekhar Chandra Mitra
किताब का आखिरी पन्ना
किताब का आखिरी पन्ना
Dr. Kishan tandon kranti
टूटे बहुत है हम
टूटे बहुत है हम
The_dk_poetry
ब्राह्मण
ब्राह्मण
Sanjay ' शून्य'
‘ विरोधरस ‘---8. || आलम्बन के अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---8. || आलम्बन के अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
साहिल के समंदर दरिया मौज,
साहिल के समंदर दरिया मौज,
Sahil Ahmad
तुम लौट आओ ना
तुम लौट आओ ना
Anju ( Ojhal )
आसान कहां होती है
आसान कहां होती है
Dr fauzia Naseem shad
ये मतलबी दुनिया है साहब,
ये मतलबी दुनिया है साहब,
Umender kumar
हरा न पाये दौड़कर,
हरा न पाये दौड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यदि कोई आपके मैसेज को सीन करके उसका प्रत्युत्तर न दे तो आपको
यदि कोई आपके मैसेज को सीन करके उसका प्रत्युत्तर न दे तो आपको
Rj Anand Prajapati
जरुरी नहीं कि
जरुरी नहीं कि
Sangeeta Beniwal
क्योंकि मै प्रेम करता हु - क्योंकि तुम प्रेम करती हो
क्योंकि मै प्रेम करता हु - क्योंकि तुम प्रेम करती हो
Basant Bhagawan Roy
ज़ब तक धर्मों मे पाप धोने की व्यवस्था है
ज़ब तक धर्मों मे पाप धोने की व्यवस्था है
शेखर सिंह
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
VINOD CHAUHAN
Loading...