Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

“मन क्यों मौन?”

“मन क्यों मौन?”
रोटी और कविता
सोचता हूँ कभी
प्राथमिक कौन है?
मुझे खुद पता नहीं
आखिर ये मन
क्यों मौन है?

1 Like · 1 Comment · 68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Raksha Bandhan
Raksha Bandhan
Sidhartha Mishra
"प्यास"
Dr. Kishan tandon kranti
हो अंधकार कितना भी, पर ये अँधेरा अनंत नहीं
हो अंधकार कितना भी, पर ये अँधेरा अनंत नहीं
पूर्वार्थ
**ग़ज़ल: पापा के नाम**
**ग़ज़ल: पापा के नाम**
Dr Mukesh 'Aseemit'
डिप्रेशन कोई मज़ाक नहीं है मेरे दोस्तों,
डिप्रेशन कोई मज़ाक नहीं है मेरे दोस्तों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
संवेदना का सौंदर्य छटा 🙏
संवेदना का सौंदर्य छटा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जन पक्ष में लेखनी चले
जन पक्ष में लेखनी चले
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
रमणीय प्रेयसी
रमणीय प्रेयसी
Pratibha Pandey
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
Kanchan Khanna
अपनी तो मोहब्बत की इतनी कहानी
अपनी तो मोहब्बत की इतनी कहानी
AVINASH (Avi...) MEHRA
कुछ हाथ भी ना आया
कुछ हाथ भी ना आया
Dalveer Singh
"सफर"
Yogendra Chaturwedi
राम तुम्हारे नहीं हैं
राम तुम्हारे नहीं हैं
Harinarayan Tanha
अमीरों का देश
अमीरों का देश
Ram Babu Mandal
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
इतनी भी
इतनी भी
Santosh Shrivastava
कभी गुज़र न सका जो गुज़र गया मुझमें
कभी गुज़र न सका जो गुज़र गया मुझमें
Shweta Soni
याद रखना
याद रखना
Dr fauzia Naseem shad
बेशक हम गरीब हैं लेकिन दिल बड़ा अमीर है कभी आना हमारे छोटा स
बेशक हम गरीब हैं लेकिन दिल बड़ा अमीर है कभी आना हमारे छोटा स
Ranjeet kumar patre
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
विद्यावाचस्पति Ph.D हिन्दी
Mahender Singh
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
Vishal babu (vishu)
एक नयी शुरुआत !!
एक नयी शुरुआत !!
Rachana
3545.💐 *पूर्णिका* 💐
3545.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ मी एसीपी प्रद्युम्न बोलतोय 😊😊😊
■ मी एसीपी प्रद्युम्न बोलतोय 😊😊😊
*प्रणय प्रभात*
--पागल खाना ?--
--पागल खाना ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
हालातों से युद्ध हो हुआ।
हालातों से युद्ध हो हुआ।
Kuldeep mishra (KD)
।। नीव ।।
।। नीव ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जो उसके हृदय को शीतलता दे जाए,
जो उसके हृदय को शीतलता दे जाए,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...