Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 1 min read

*मन के धागे बुने तो नहीं है*

खोयी और उदास हूँ,
मोती आँखों के गिरे कही,
उनको किसी ने चुने नहीं,
सूख गये धरा में अब,
दर्द के निशान पड़े वही।

ना मोती सुशोभित,
ना पुष्प से गूँथे ,
ना रंगों में डुबोया ,
ना प्रेम प्रीत से बांँधा है,
धागा बंधन बन आया है।

खुशबू हृदय की फैले कैसे ?
मन मयूर चहके ,कैसे?
श्वेत पवित्र ना दिखे अब ये,
मेरे मन के धागे ,
तुमने बुने तो नहीं है।

रचनाकार –
बुद्ध प्रकाश ,
मौदहा हमीरपुर।

1 Like · 141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
Starting it is not the problem, finishing it is the real thi
पूर्वार्थ
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
शेखर सिंह
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
सत्य कुमार प्रेमी
2253.
2253.
Dr.Khedu Bharti
शिव  से   ही   है  सृष्टि
शिव से ही है सृष्टि
Paras Nath Jha
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
उसकी दहलीज पर
उसकी दहलीज पर
Satish Srijan
#लघुकथा / #नक़ाब
#लघुकथा / #नक़ाब
*Author प्रणय प्रभात*
ऋतुराज
ऋतुराज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
चलिए खूब कमाइए, जिनके बच्चे एक ( कुंडलिया )
चलिए खूब कमाइए, जिनके बच्चे एक ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
मिलकर नज़रें निगाह से लूट लेतीं है आँखें
मिलकर नज़रें निगाह से लूट लेतीं है आँखें
Amit Pandey
पत्र गया जीमेल से,
पत्र गया जीमेल से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज्योतिर्मय
ज्योतिर्मय
Pratibha Pandey
तजो आलस तजो निद्रा, रखो मन भावमय चेतन।
तजो आलस तजो निद्रा, रखो मन भावमय चेतन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जागी जवानी
जागी जवानी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Dr. Arun Kumar Shastri
Dr. Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इंसान जिंहें कहते
इंसान जिंहें कहते
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
यही रात अंतिम यही रात भारी।
यही रात अंतिम यही रात भारी।
Kumar Kalhans
जय अन्नदाता
जय अन्नदाता
gurudeenverma198
💐प्रेम कौतुक-562💐
💐प्रेम कौतुक-562💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मैं तो महज आईना हूँ
मैं तो महज आईना हूँ
VINOD CHAUHAN
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
Neelam Sharma
!! हे लोकतंत्र !!
!! हे लोकतंत्र !!
Akash Yadav
"प्यासा कुआँ"
Dr. Kishan tandon kranti
भोर
भोर
Omee Bhargava
Speak with your work not with your words
Speak with your work not with your words
Nupur Pathak
Loading...